अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड के कारोबारी झूमे, कहा-चाय हो

ांग्रेस द्वारा देश में मजबूत सरकार बनाने की कयावद शुरू होते ही शेयर बाजार भी छलांग लगाने लगा। रविवार की छुट्टी के बाद सोमवार को जसे ही मुंबई स्टॉक एक्सचेंज खुला, सेंसेक्स का ग्राफ ऊंचाई पकड़ने लगा। शेयर बाजार के चढ़ते ही झारखंड में शेयर बाजार के कारोबारी भी झूम उठे। पहली बार सर्किट ब्रेक लगा कर ट्रेडिंग रोकना पड़ा। बेहतर स्थिति को देखते हुए शेयर बाजार से जुड़े लोगों ने कहा ‘कांग्रेस की जय’ हो।ड्ढr नारनोलिया सिक्यूरिटिा के सीएमडी कृष्णानंद नारनोलिया ने सेंसेक्स में आयी उछाल को इंडियन इकोनोमी के लिए शुभ बताया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जहां पूर विश्व की अर्थव्यवस्था उठा-पटक के दौर से गुजर रही है, वहां भारत में स्टेबल गवर्मेट बन रही है, यह बड़ी बात है। निवेशकों को उन्होंने सलाह दी है कि वे अपने दिमाग से काम लें। उन्हें आंख मूंद कर निवेश नहीं करना चाहिए। भारतीय अर्थव्यवस्था में इंफ्रास्ट्रक्चर की कंपनियों, रीयल इस्टेट, इंश्योरंस, रूरल इकोनॉमी से जुड़ी कंपनियों में निवेश करना फायदेमंद होगा।ड्ढr एसएसजे फायनांस के जोनल हेड शशांक भारद्वाज ने कहा कि शेयर बाजार में जिस प्रकार से तेजी आयी, उससे सर्किट ब्रेकर लगाना पड़ा। ट्रेडिंग रोक दी गयी। उन्होंने कहा कि नयी सरकार में स्थायित्वता दिखायी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि आर्थिक मंदी के बाद अचानक शेयर बाजार में तेजी आना शुभ संकेत माना जा सकता है। आनेवाले दिनों में विदेशी निवेशक भी अपना रुझान भारत के शेयर बाजार की ओर दिखायेंगे। शेयर बाजार के जानकार ललित त्रिपाठी का मानना है कि यह उछाल सेंटिमेंटल उछाल है। इसे फंडामेंटल ग्रोथ के रूप में नहीं देखना चाहिए। ऐसे समय में जो निवेशक अपने को फंसा हुआ मान रहे थे, उनके लिए निकलने का अच्छा मौका है। लेकिन लांग टर्म निवेशकों को इंतजार करना चाहिए। कांग्रेस की सरकार अब पांच साल तो आसानी से चलेगी, इसलिए शेयर बाजार बेहतर ही होगा। अब ट्रेडिंग की ओर ध्यान नहीं देकर, इनवेस्टमेंट की ओर ध्यान दिया जाना चाहिए। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: झारखंड के कारोबारी झूमे, कहा-चाय हो