DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मनमोहन चुने गए सीपीपी नेता, पेश करेंगे दावा

मनमोहन सिंह के संसदीय दल का नेता चुने जाने और उन्हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने का आग्रह लेकर कांग्रेस के शीर्ष नेता प्रतिभा पाटिल से मिलेंगे। संसदीय दल का अध्यक्ष चुने जाने के बाद सोनिया ने मनमोहन को सीपीपी नेता नियुक्त किया। राष्ट्रपति को मनमोहन सिंह के पार्टी के संसदीय दल का नेता चुने जाने की जानकारी देने और उन्हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने का आग्रह करने के लिए कांग्रेस के शीर्ष नेता मंगलवार को प्रतिभा पाटिल से मिलेंगे। इससे पहले पंद्रहवीं लोकसभा के चुनाव में जबरदस्त कामयाबी हासिल करने के बाद कांग्रेस ने सोनिया गांधी को पार्टी संसदीय दल का अध्यक्ष चुना और सोनिया ने मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री पद के लिए पुन: नामित करते हुए संसदीय दल का नेता नियुक्त किया। कांग्रेस संसदीय दल की मंगलवार को सुबह संसद के केन्द्रीय कक्ष में हुई बैठक में पार्टी के नवनिर्वाचित सांसदों ने सोनिया को संसदीय दल का चेयरपर्सन चुना। पांच साल पुरानी याद ताजा करते हुए सोनिया ने प्रधानमंत्री पद के लिए मनमोहन सिंह का नाम दोबारा पेश किया। उन्होंने कहा कि मैं डा़ मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री के रूप में नामित करती हूं और आप लोगों से उनका पुरजोर समर्थन करने का आग्रह करती हूं। उनका पिछले पांच साल का रिकार्ड खुद बोलता है और आने वाले वषर्ो में हमें उनका नेतत्व चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को उनका गरिमापूर्ण, प्रतिबद्ध और प्रभावशाली नेतृत्व हम सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत रहा है और देश की जनता ने इसे पूरा समर्थन दिया है। आइये हम उन्हें धन्यवाद और शुभकामनाएं दें। प्रधानमंत्री के लिए दोबारा नामित किये जाने पर सिंह ने कहा कि यह सम्मान दिये जाने के लिए मैं सोनिया गांधी और कांग्रेस संसदीय दल का तहे दिल से आभारी हूं। मैं विनम्रता के साथ इस बड़ी जिम्मेदारी को स्वीकार करता हूं और वादा करता हूं कि कांग्रेस पार्टी और इस महान देश की जनता के लिए मैं पूरी लगन और निष्ठा से काम करूंगा। पार्टी महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने बैठक के बाद संवाददाताआें को बताया कि संप्रग के घटक दलों के साथ बैठक के बाद राष्ट्रपति को कांग्रेस और सहयोगी दलों के समर्थन के पत्र सौंपे जाएंगे। द्विवेदी ने कहा कि संप्रग के चुनाव पूर्व के सहयोगी दलों की बैठक कल होने जा रही है, जिसके बाद समर्थन के पत्र राष्ट्रपति को सौंपे जाएंगे और मनमोहन सिंह के नेतृत्व में नयी सरकार के गठन की प्रक्रिया आगे बढ़ेगी। सोनिया ने कहा कि पांच साल पहले सिंह के नेतृत्व में हमने धर्म निरपेक्षता और अपने मूल्यों को बहाल करने के लिए पहला कदम उठाया था ताकि करोड़ों लोगों विशेषकर वंचित तबके के लोगों के जीवन को सुधारा जा सके, अर्थव्यवस्था को नये सिरे से तैयार किया जा सके और दुनिया में अपनी मजबूत जगह बनायी जा सके। उन्होंने कहा कि आगे भी हम इस रचनात्मकता रास्ते पर और अधिक विश्वास और मजबूती से चलते रहेंगे। जनादेश ने हमें बता दिया है कि सार्वजनिक जीवन में शुचिता और सक्षम सरकार सबसे ऊपर होती है। हमें देश की जनता को निराश नहीं करना है। सोनिया ने कहा कि मैं इन लक्ष्यों को पाने के लिए आप सभी के साथ मिलकर काम करना चाहती हूं और आपकी सफलता और लोकसभा में उत्पादक कार्यकाल की कामना करती हूं। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की जनता ने हमें शानदार जनादेश दिया है। उसने सत्ता विरोधी फैशनेबल सिद्धांत को कूड़ेदान में डाल दिया है। लेकिन हमें संपूर्ण जनादेश अपने पक्ष में करने के लिए और कड़ी मेहनत और बेहतर प्रदर्शन करना होगा। यह हमारी पार्टी और सरकार के लिए एक चुनौती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मनमोहन चुने गए सीपीपी नेता, पेश करेंगे दावा