DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

समर्थन की झड़ी लगी

यूपीए पर समर्थन की बौछार होने लगी है। मंगलवार को सपा, बसपा, राजद, लोकदल, जेडीएस, झारखंड विकास मोर्चा तथा सिक्िकम डेमोक्रेटिक फ्रंट ने बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान किया। इन दलों के समर्थन के बाद यूपीए की नंबर संख्या 322 तक पहुंच गई है। समर्थन के इस बफर स्टाक के बाद यूपीए में शामिल दल या बाहर से समर्थन दे रहे दल सरकार पर अनावश्यक दबाव नहीं डाल पाएंगे। इससे प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को खुला हाथ मिलेगा। लखनऊ में सुबह बसपा कार्यकारिणी और संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद पार्टी सुप्रीमो मायावती ने यूपीए सरकार को बिना शर्त समर्थन का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने उन्हें अपनी छोटी बहन कहा और अनुरोध किया कि धर्म निरपेक्ष ताकतों को मजबूत करने के लिए वह यूपीए सरकार के गठन में सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाएं। इसके बाद पार्टी ने यूपीए को समर्थन देने का फैसला किया। इधर दिल्ली में दोपहर को सपा महासचिव अमर सिंह राष्ट्रपति भवन पहुंचे और राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को अपनी पार्टी के 23 सांसदों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी। उन्होंने कहा कि सोमवार को पीएम ने फोन पर बात कर समर्थन मांगा था इसलिए उन्होंने आज समर्थन का पत्र राष्ट्रपति को सौंप दिया है। इससे पूर्व जनता दल (सेक्युलर) भी केंद्र सरकार को बिना शर्त समर्थन दे चुका है। मंगलवार की शाम को राजद नेता प्रेमचंद गुप्ता और जयप्रकाश यादव ने भी राष्ट्रपति को पांच सांसदों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी। जनता दल एस के नेता एच. डी. कुमारस्वामी तथा झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री व झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने भी सोनिया गांधी के निवास पर उनसे मिलकर सरकार को समर्थन की घोषणा की है। इसके अतिरिक्त आधा दर्जन से अधिक निर्दलीय सदस्यों ने भी यूपीए की नई सरकार को समर्थन देने की घोषणा की है। राष्ट्रपति भवन के अनुसार बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट और सिक्िकम डेमोक्रेटिक फ्रंट से भी यूपीए सरकार को समर्थन के लिए संदेश प्राप्त हुए हैं। संख्याबल के मोर्चे पर अब यूपीए बहुत मजबूत हो चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: समर्थन की झड़ी लगी