अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल से सहयोग की पेशकश

बिहार ने नेपाल को मदद की पेशकश की है। नेपाल के सुनसरी में राजाबांस और उसके आस-पास बने बांध के निकट उत्पन्न परशानी से बिहार की चिन्ता बढ़ा दी है। उसने नेपाल को सामग्री और तकनीकी सहयोग देने का प्रस्ताव दिया है। बिहार ने केन्द्र से इस मामले में हस्तक्षेप का भी अनुरोध किया है।ड्ढr ड्ढr उधर नेपाल के दूतावास को भी इस संबंध में सूचना दे दी गई है। बिहार की चिन्ता इस बात से अधिक है कि संबंधित क्षेत्र जहां बांध पर समस्या है वह कोसी प्रोजेक्ट का क्षेत्र नहीं है और पूरी तरह नेपाल के अधीन आता है। हालांकि जल संसाधन विभाग का दावा है राजाबांस और उसके आस-पास काम तेजी से हो रहा है और किसी तरह की कोई समस्या नहीं है। हालांकि एहतियात के तौर पर वह नेपाल को मदद करना चाहता है, क्योंकि अगर बांध पर किसी तरह की समस्या उत्पन्न हुई तो बिहार ही प्रभावित होगा।ड्ढr ड्ढr उधर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जल संसाधन विभाग को बाढ़ निरोधक कार्य समय सीमा के अंदर पूरा करने का निर्देश दिया है। सोमवार को विभाग के प्रधान सचिव अजय वी. नायक के साथ समीक्षा बैठक के दौरान उन्होंने बाढ़ से संबंधित तमाम योजनाओं का जायजा लिया। श्री नायक ने उन्हें विभाग की सभी योजनाओं की अद्यतन जानकारी दी और बताया कि वे समय सीमा के अंदर पूरी होंगी। समीक्षा बैठक में पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव आर.के. सिंह और पुल निर्माण निगम के एमडी प्रत्यय अमृत भी शामिल थे। श्री नायक ने कोसी तटबंध को पूरी तरह सुरक्षित बताया और कहा कि नेपाल के हिस्से में कुछ परशानी हुई है, लेकिन वह गंभीर नहीं है। वहां पहले से काम चल रहा है।हालांकि बिहार ने नेपाल को सामग्री आदि से सहयोग का प्रस्ताव दे दिया है। कई जगहों पर टूटा हुआ है सुरसर बांधड्ढr अमरंद्र कुमार फारबिसगंज अररिया के नरपतगंज के पास बना सुरसर बांध तीन जगहों पर टूटा हुआ है। इसकी मरम्मत की प्रक्रिया अब तक कागजों पर ही चल रही है। वहीं मेन केनाल भी कई जगह ध्वस्त है। बाढ़ का समय नजदीक आता जा रहा है लेकिन प्रशासन अभी तक टेंडरों व बैठकों में ही व्यस्त है। मरम्मत का कार्य कहीं शुरू नहीं हुआ है। आगामी 25 मई को जिलाधिकारी ने तकनीकी टीम की बैठक बुलाई है। बांध की मरम्मत के मामले में भी मुख्य अभियंताओं की अलग-अलग राय है। सुरसर तटबंध की मरम्मत के सवाल पर मुख्य अभियंता (पूर्णिया) आरपी राम का कहना है कि उन्होंने अररिया तथा सुपौल के डीएम से नरगा के तहत मरम्मत कराने का आग्रह किया था मगर ऐसा नहीं हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नेपाल से सहयोग की पेशकश