DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वृद्धों, विधवाओं, अपंगों की पेंशन योजनाएं नए रूप में

वृद्धों, विधवाओं और अपाहिजों को सरकार द्वारा दी जाने वाली पेंशन योजनाओं को नया रूप दिया जा रहा है और इनका विस्तार किया जा रहा है। वित्त मंत्रालय ने इसे अपनी हरी झंडी दिखा दी है, हालांकि इस नई योजना के लिए एक भारी-भरकम अतिरिक्त राशि का जुगाड़ करना होगा। उच्च पदस्थ सरकारी सूत्रों के अनुसार, वृद्धों, विधवाओं और अपाहिजों के लिए मौजूदा तीन नई योजनाओं को मिलाकर एक कर दिया जाएगा और इसे ‘इंदिरा गांधी राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम’ नाम दिया जाएगा। आगामी बजट में इसकी घोषणा कर दी जाएगी। वित्त मंत्रालय का आकलन है कि इन योजनाओं को नए रूप में लाने और इसके दायरे को विस्तृत करने में ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना (2007-11) के दौरान 28,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त खर्च आएगा। मौजूदा उपरोक्त योजनाओं को लिए ग्यारहवीं योजना के दौरान 17,700 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत है। इन योजनाओं के तहत पेंशन की हकदार देश की 18 से अधिक उम्र की 40 लाख विधवाएं और 51 लाख अपाहिज हैं। सरकार ने इसे भी सहमति दे दी है कि गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले वृद्धों को पेंशन दिए जाने वाली मौजूदा योजना में लाभार्थी की उम्र को वर्तमान के 65 साल से घटा कर 60 साल कर दिया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वृद्धों, विधवाओं, अपंगों की पेंशन योजनाएं