class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनीति नहीं, फिल्मों पर ज्यादा ध्यान है गोविंदा का

‘गोविन्दा को मालूम है कि उनकी प्राथमिकताआें में राजनीति काफी पीछे और फिल्में सबसे ऊपर हैं। बॉलीवुड में उनका दोबारा जन्म हुआ है।’ गोविन्दा के साथ ‘परदेसी बाबू’ जैसी फिल्में बना चुके प्रोडय़ूसर कुलभूषण गुप्ता जब ‘हिन्दुस्तान’ से बातचीत में मित्र गोविन्दा के बारे में यह बयान देते हैं तो उन्हें मालूम है कि वे क्या कहना चाह रहे हैं। बॉलीवुड में गोविन्दा के लिए यह बेहतरीन समय है। प्रियदर्शन की कॉमेडी ‘भागमभाग’ (2006) से उनकी वापसी हुई। फिल्म हिट हुई और उन्हें फिल्में मिलने लगीं। मित्र सलमान के साथ उनकी जोड़ी ने तो ‘पार्टनर’ में तहलका मचा दिया। ‘पार्टनर’ 2007 की बड़ी हिट फिल्मों में से एक थी और इसने बॉक्स ऑफिस पर करीब 55 करोड़ रुपए की कमाई की। गोविन्दा और सलमान के डांस वाले गाने (सोणी के नखरे..) तो इतने हिट रहे कि हाल में ‘आेम शांति आेम’ (कैसेट-सीडी बिक्री-18 लाख यूनिट) के बाद म्यूजिक सीडी बिक्री का अधिकृत रिकार्ड ‘पार्टनर’ (17 लाख यूनिट) का ही है। कुलभूषण कहते हैं, ‘उन्हें मालूम है कि वे शायद ही एम.पी. बनें। इसलिए पूरा ध्यान फिल्मों पर लगा रहे हैं।’ 2004-2005 में गोविंदा के पास कोई काम नहीं था। ‘खुल्लम खुल्ला प्यार करें’ और अपने होम प्रोडक्शन की फिल्म ‘सुख’ पिट चुकी थी और कई करोड़ के कर्जे उनके सिर पर थे। अब बदल चुकी है स्थिति : दिल्ली-यूपी के डिस्ट्रीब्यूटर और फिल्म विश्लेषक संजय मेहता कहते हैं, ‘आज गोविन्दा हर फिल्म के लिए 2 से 3 करोड़ रुपए मांग रहे हैं और प्रोडय़ूसर देने के लिए तैयार भी हैं। कॉमेडी फिल्मों के इस दौर में गोविन्दा की खासी मांग है।’ ‘पार्टनर’ की सफलता के बाद डायरेक्टर डेविड धवन, सलमान और गोविन्दा की तिगड़ी फिर से ‘टॉम एंड जेरी’ में दिखेगी। ‘भागमभाग’ के बाद प्रियदर्शन ने गोविन्दा को एक और फिल्म में लिया, जो रिलीज को तैयार है। गोविन्दा के पास रवि चोपड़ा की ‘बंदा ये बिंदास है’, ‘मनी है तो हनी है’, ‘चल चला चल’ जैसी कई फिल्में हैं। अपर्णा सेन की ‘ज्वेलरी बॉक्स’ में गोविन्दा मुख्य भूमिका में हैं। गोविन्दा ने अभी तक 123 फिल्में की हैं। बॉक्स ऑफिस पर उनकी फिल्मों की कुल कमाई करीब 647 करोड़ रुपए मानी जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फिल्मों पर ज्यादा ध्यान है गोविंदा का