class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोली के रूप में बरसती मौत को देखा राजेश ने

सपने में भी नहीं ऐसा सोचा था कि लेकिन होनी को यही मंजूर था। शनिवार को अपनी आंखों के सामने राजेश ने अपने ऊपर बरसती गोलियों को मौत के रूप में देखा। काटो तो खून नहीं जैसी स्थिति थी। किसी तरह उसने दुकान के अंदर बने कंक्रीट के पाये का ओट लेकर अपनी जान बचाई। वैसे लुटेरों ने उसे भी निशाना बनाने की पूरी कोशिश की। कंकड़बाग इलाके में तिवारी बेचर पेट्रॉल पंप के समीप ‘मोबाइल मॉल’ में लुटेरों के खूनी तांडव के प्रत्यक्षदर्शी रहे घायल व्यवसायी बंधुओं के चचेरे भाई राजेश ने बताया कि उन लोगों ने दुकान का शीशा तोड़ कर शोर भी मचाया पर आसपास के लोग शायद समझ नहीं पाये। वैसे इलाके में उस समय जितनी भीड़भाड़ थी अगर पीछा किया जाता तो अपराधियों का भागना मुश्किल हो जाता।ड्ढr ड्ढr राजेश के मुताबिक बहुमंजिली इमारत के पहले तल्ले पर स्थित मोबाइल की डबल डेकर दुकान में लुटेरे सैमसंग का वह प्रोडक्ट खोजते हुए पहुंचे जो उपलब्ध नहीं था। दिलचस्प यह कि नीचे सर्विस सेंटर की बजाय अपराधी सीधे ऊपर सेल प्वाइंट पर पहुंच गये।ड्ढr अपराधियों की संख्या पांच-छह थी। वहां कई मोबाइल देखने के बहाने निकलवाये और फिर हथियार निकाल कर सभी असली रंग में आ गये। इधर घायल व्यवसायी बंधुओं पर लुटेरों की साजिश कहर बन कर टूटी है। शेखपुरा जिले के मूल निवासी मुरारी और बिहारी किसान के बेटे हैं। करीब एक दशक से हनुमान नगर में रह कर दोनों भाई व्यवसाय कर रहे हैं। बैंक आदि से कर्ज लेकर बड़े अरमानों से कुछ ही समय पहले दोनों ने मोबाइल की बड़ी दुकान खोली। हालांकि तकदीर को कुछ और ही मंजूर था। लुटेरों ने एक ही झटके में दोनों भाइयों को अस्पताल के बिस्तर पर जीवन और मौत के बीच जंग लड़ने के लिए पहुंचा दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गोली के रूप में बरसती मौत को देखा राजेश ने