DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव की संभावना

बीते सप्ताह भारी उथल-पुथल से गुजरे देश के शेयर बाजारों में आगामी हफ्ते भी उतार चढ़ाव की अधिक संभावना है। गत सप्ताह बीएसई के सेंसेक्स और एनएसई के निफ्टी को अंकों के लिहाज से तीव्रतम गिरावट का स्वाद चखना पड़ा। सेंसेक्स ने 1814 अंक और निफ्टी ने 4अंक का गोता लगाया। बाजार विश्लेषक शेयर बाजारों की आगामी सप्ताह की चाल को लेकर थोड़े आशंकित नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि कुछ संभावनाएं तो ऐसी नजर आ रही हैं कि बाजार वर्तमान स्तर के आसपास टिक सकता है, लेकिन पहले दिन के कारोबार में कहीं झटका लग गया तो फिर संभलने में खासी दिक्कतें आ सकती हैं। बीते सप्ताह विदेशी शेयर बाजारों में भारी मंदी और निवेशकों की ताबड़तोड़ बिकवाली के बीच एक भी कारोबारी दिवस में शेयर बाजार तेजी का मुंह नहीं देख पाए। सप्ताह के अंतिम दिन तो सेंसेक्स ने अंकों के लिहाज से पांचवीं बड़ी और निफ्टी ने चौथी बड़ी गिरावट का झटका सहन किया। सप्ताह के दौरान सेंसेक्स कुल 1813.75 अंक अर्थात 8.7 प्रतिशत के नुकसान से 1013.75 अंक रह गया। शुक्रवार के कामकाज में सेंसेक्स 18000 अंक से नीचे भी आया। निफ्टी 7.प्रतिशत अर्थात 40 अंक के नुकसान से 5705.30 अंक रह गया। सेंसेक्स की भारी गिरावट के साथ ही बीएसई के मिड कैप और स्माल कैप को भी तगड़े झटके लगे। इनमें क्रमश: 544.77 तथा 533.57 अंक की गिरावट आई। दिल्ली शेयर बाजार के पूर्व अध्यक्ष और ग्लोब कैपीटल मार्केट्स लिमिटेड के अध्यक्ष अशोक कुमार अग्रवाल का मानना है कि शेयर बाजारों को वर्तमान स्तर पर ठहराना चाहिए। उनका कहना है कि विश्व के बाजारों का असर रहेगा, किंतु पहले दिन सेंसेक्स और निफ्टी को कोई तगड़ा झटका लगता है तो परेशानी बढ़ सकती है। देश के शेयर बाजारों की तगड़ी गिरावट के चलते पिछले सप्ताह बाजार पूंजीकरण में पांच लाख 30 हजार 444 करोड़ रुपए का क्षरण हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव की संभावना