class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रईस लोग ही आएं, बाकी जाएं

ऐसा जान पड़ता है कि ब्रिटेन अब अपनी धरती पर सिर्फ रईसों को ठहरने देना चाहता है। कम से नए कानूनों को तो देखकर ऐसा ही लगता है। यह कानून एक अप्रैल से लागू हो रहे हैं। इनमें से एक के तहत ऐसे रईस विदेशी जो ब्रिटेन में कम से कम 10 लाख पाउंड का निवेश करने को तैयार हों, यहां रहने की अनुमति पा सकते हैं फिर चाहे उन्हें अंग्रेजी आती हो या नहीं जो कि वैसे जरूरी मानी जाती है। वहीं दूसरे कानून के तहत अस्थाई निवास वाले संपन्न विदेशियों पर प्रतिवर्ष 30 हजार पाउंड का कर लगाया जाएगा। इसके चलते कई लोग ब्रिटेन छोड़ने को मजबूर हो जाएंगे, जिनमें कुछ भारतीय भी शामिल हैं।यह प्रस्ताव देश में बसावट को बढ़ाने और आव्रजकों के माध्यम से ब्रिटेन के एकीकरण को प्रोत्साहन देने के लिए बनाया गया है। इस साल से ब्रिटेन एक पांच स्तरीय अंक आधारित तंत्र लागू करने जा रहा है जो विदेशियों को यहां आने काम करने और बसने की अनुमति देगा। इनमें कुशल प्रवासी, उद्योगपति और अविष्कारक, श्रम बाजार में कमी को दूर करने के लिए नौकरी के अनुबंध के साथ कुशल, अकुशल, अस्थाई और मौसमी श्रमिक, छात्र व अस्थाई कर्मचारी जैसे छुट्टी के दिन काम करने वाले लोग शामिल हैं। बेहद कुशल श्रमिकों के लिए इस नए तंत्र के तहत करोड़पतियों को ब्रिटेन मंे आने के तीन माह के भीतर 7,50,000 पाउंड का निवेश करना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रईस लोग ही आएं, बाकी जाएं