अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेयर बाजारों में दूसरे दिन भी कत्लेआम

देश के शेयर बाजारों में मंगलवार को भारी उथलपुथल के बीच घबराहटपूर्ण बिकवाली से लगातार सातवें दिन शेयर औंधे मुंह नीचे आए। बम्बई शेयर बाजार (बीएसई) का सेसेंक्स 875.41 और नेशनल स्टाक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 300 अंक का गोता लगाकर तीन माह के न्यूनतम स्तर पर बंद हुए। सुबह कारोबार खुलते ही ताबड़तोड़ बिकवाली के चलते बीएसई और एनएसई में स*++++++++++++++++++++++++++++र्*ट ब्रेकर का इस्तेमाल करना पडा। इस दौरान वित्त मंत्री पी चिदम्बरम का बयान आया और फिर बाजार खुलने पर घरेलू संस्थानों के समर्थन से बाजार कुछ संभलता दिखा।सत्र की शुरुआत में सेंसेक्स कल के 17605.35 अंक की तुलना में 16884.0अंक पर खुला और देखते ही देखते ढह गया और स*++++++++++++++++++++++++++++र्*ट ब्रेकर लगाना पड़ा। इसी दौरान, श्री चिदम्बरम ने निवेशकों को धैर्य रखकर शेयर बाजारों में बने रहने की अपील की। श्री चिदम्बरम ने कहा कि देश की मजबूत अर्थव्यवस्था की स्थिति में कोई बदलाव नहीं है। चालू वित्त वर्ष में यह करीब नौ प्रतिशत और यहां तक की 2008-0में साढ़े आठ प्रतिशत आर्थिक विकास दर का अनुमान है। उन्होंने कहा कि तरलता को लेकर जो संकट है, उसे भी दूर करने के उपाय किए जा रहे हैं। स*++++++++++++++++++++++++++++र्*ट ब्रेकर के बाद करीब ग्यारह बजे फिर खुला बाजार कुछ संभलता नजर आया। भारतीय जीवन बीमा निगम समेत कई घरेलू संस्थानों ने बाजार को समर्थन दिया। कारोबार के दौरान सेंसेक्स में 2273 अंक की भारी घटबढ़ देखी गई और यह नीचे में तीन माह में पहली बार 16000 अंक से नीचे 15332.42 अंक तक गिरने के बाद समाप्ति पर कुल 875.41 अंक अर्थात 4.प्रतिशत के नुकसान से 1672अंक पर बंद हुआ। इस दौरान सत्र में सेंसेक्स ऊंचे में 17068.57 अंक तक गया। उल्लेखनीय है कि कल सूचकांक में एक दिन की 1408 अंक की रिकार्ड गिरावट आई थी। एनएसई का निफ्टी 4500 अंक से नीचे गिरने के बाद समाप्ति पर 300 अंक अर्थात 5.प्रतिशत के नुकसान से 480 अंक पर बंद हुआ। बाजार विश्लेषकों का कहना है कि देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है और शेयर बाजार दीर्घकालिक लिहाज से मजबूत नजर आ रहे हैं, किंतु वैश्विक चिंताआें ने निवेशकों को अधिक झकझोर दिया। मई 2004 के बाद शेयर बाजारों में यह कारोबार के दौरान की सबसे बड़ी गिरावट रही। पिछले सात कारोबारी दिवसों में सेंसेक्स को 4100 अंक से अधिक का चूना लग चुका है। इसी माह दस जनवरी को सेंसेक्स 21206 अंक के रिकार्ड पर पहुंचा था। कारोबार के दौरान बीएसई के किसी भी वर्ग के समूह का सूचकांक बिकवाली से बच नहीं पाया। मिडकैप और स्माल कैप में क्रमश 8.62 तथा 8.0प्रतिशत का घाटा हुआ। इनमें क्रमश: 67तथा 883.27 अंक का नुकसान दिखा।ड्ढr बीएसई के आयल ऐंड गैस ने 1114.55 अंक का गोता लगाया तो धातु सूचकांक 84अंक टूटा। रियलटी 03 अंक, इंजीनियरिंग 635.0और बैंकेक्स 423.66 अंक नीचे आए। सत्र के दौरान बीएसई में कुल 2454 कंपनियों के शेयरों में कामकाज हुआ। इसमें 2273 अर्थात प्रतिशत में नुकसान और मात्र 152 में लाभ रहा जबकि 2ंपनियों के शेयरों में स्थिरता थी। सेंसेक्स की तीस कंपनियों में दो फायदे और 28 नुकसान में रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शेयर बाजारों में दूसरे दिन भी कत्लेआम