अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कनाडा : भारतीय मूल की सीनेटर जांच के घेरे में

भारतीय मूल की कनाडाई सीनेटर मोबिना जाफर को उनकी कंपनी द्वारा बढ़ा-चढ़ा कर बिल भेजे जाने के आरोप में ब्रिटिश कोलंबिया लॉ सोसायटी की जांच का सामना करना पड़ रहा है। पेशे से वकील जाफर अपने पुत्र अजूल जाफर-जेरई के साथ मिलकर वेंकुवर में दोहम नामक एक विधि कंपनी चलाती हैं। वर्ष 2000 में ‘ओबलेट्स ऑफ मैरी इमैक्युलेट’ नामक कैथोलिक मिशन ने अपने सदस्यों पर आवासीय स्कूलों के पूर्व छात्रों द्वारा लगाए गए यौन र्दुव्‍यवहार के आरोपों से निपटने के लिए जाफर की विधि कंपनी की सेवा ली थी। सीनेटर जाफर के खिलाफ अपनी शिकायत में कैथोलिक मिशन ने कहा है कि उनकी विधि कंपनी द्वारा वर्ष 2000 से 2004 के बीच दी गई सेवा के लिए 67 लाख कनाडाई डॉलर (65 लाख अमेरिकी डॉलर) का अत्यधिक शुल्क मांगा गया है। मिशन ने दावा किया है कि इस सेवा के लिए जाफर द्वारा 450 डॉलर प्रति घंटे और उनके पुत्र द्वारा 200 डॉलर प्रति घंटे की शुल्क पूरी तरह अनुचित है और बिल मानदंडों के खिलाफ है। लॉ सोसायटी के प्रवक्ता ब्रैड डेसली ने एक स्थानीय समाचार पत्र को बताया कि यद्यपि जाफर और उनके पुत्र के खिलाफ इस मामले की जांच तीन वर्ष पहले ही शुरू हो चुकी है, लेकिन इस मिशन ने इस मामले को ब्रिटिश कोलंबिया सुप्रीम कोर्ट में भी चुनौती दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारतीय मूल की सीनेटर जांच के घेरे में