class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बर्ड फ्लू की चपेट में आधा पश्चिम बंगाल

तकरीबन आधा पश्चिम बंगाल बर्ड फ्लू की चपेट में आ गया है। बुधवार को कूच बिहार और हुगली को भी प्रभावित जिलों की सूची मंे शामिल कर लिया गया। इसके साथ अब यहां के नौ जिले बर्ड फ्लू से प्रभावित घोषित हो गए हैं। स्थानीय प्रशासन ने प्रतिदिन तीन लाख मुर्गियों को मारने का लक्ष्य रखा है। दूसरी आेर बिहार ने सतर्कता बररते हुए कटिहार के छह पंचायती क्षेत्रों मंे मुर्गियों को मारने का आदेश जारी कर दिया। इससे पहले राज्य सरकार ने पश्चिम बंगाल से किसी भी प्रकार के पोल्ट्री उत्पाद के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया था। पश्चिमी बंगाल की स्थिति को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने उड़ीसा, झारखंड, बिहार, असम, त्रिपुरा और मेघालय में अपनी विशेषज्ञों की टीमें रवाना कर दी हैं। पश्चिमी बंगाल से इन राज्यों में भी बर्ड फ्लू के फैल जाने की आशंका है। हालांकि यहां अभी तक किसी भी मानव के बर्ड फ्लू से संक्रमित होने के समाचार नहीं मिले हैं। यह बीमारी और न फैले तथा स्थिति पर नजर रखने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शीघ्र ही इस पर एक निगरानी समिति बनाए जाने की संभावना है। मंत्रालय की छह रैपिड टीमें अभियान में जुटे राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों की सहायता कर रही हैं।पश्चिमी बंगाल में पड़ोसी राज्यों से मदद के बावजूद एक हजार से भी ज्यादा पशु चिकित्सकों की कमी पड़ गई है। नंगे बच्चे प्रभावित जिलों में मुर्गियों के साथ खेलते हुए नजर आते हैं। प्रभावित जिलों में काफी लोग बुखार, जुकाम आदि से पीड़ित हैं। यहां मुर्गियों को मारने का काम जारी है। दिल्ली स्थित राष्ट्रीय संचारी रोग संस्थान में मुर्शिदाबाद निवासी जिन पांच लोगों के रक्त के नमूने जांच के लिए भेजे गए थे, उनमें बर्ड फ्लू का संक्रमण नहीं है। इससे स्वास्थ्य मंत्रालय ने राहत की सांस ली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बर्ड फ्लू की चपेट में आधा पश्चिम बंगाल