DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डिलीवरी नहीं होने वाले सौदों में भी वायदा

जिंसों में वायदा कारोबार के साथ ही अब जिंसो से जुड़े ऐसे सौदों में भी कारोबार किया जा सकेगा जिनकी डिलीवरी संभव नहीं है और जिनका कोई भौतिक अस्तिव नहीं है। इसके चलते वैदर डेरिवेटिव, कार्बन क्रेडिट, ऑप्शन और इंडेक्स भी वायदा कारोबार संभव हो सकेगा। इसके लिए फारवर्ड कांट्रैक्ट की परिभाषा बदल कर फ्यूचर के साथ ऑप्शन को भी शामिल कर लिया गया है। फारवर्ड कांट्रैक्ट (रेगूलेशन) एक्ट, 1में एक अध्यादेश के जरिये संशोधन किया गया है। वहीं फारवर्ड मार्केट कमीशन (एफएमसी) के अधिकारों में भी बढ़ोतरी कर दी गई है। अध्यादेश को गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में मंजूरी दी गई है। इससे संबंधित विधेयक को संसद के आगामी सत्र में पेश किया जाएगा। उपभोक्ता मामले विभाग के तहत आने वाला एफएमसी इस अध्यादेश के लागू होने के साथ ही एक अधिकारसंपन्न संस्था बन जाएगा। जिंस वायदा कारोबार के लिए इसकी वही स्थिति होगी जो शेयर बाजार के लिए सेबी की है। मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक कानून में संशोधन के फैसले से जिंस वायदा एक्सचेंजों में कारोबार का दायरा बहुत बढ़ जाएगा। अभी तक वायदा सौदे का मतलब था कि सामान की डिलीवरी करना। लेकिन नई स्थिति में सामान की डिलीवरी की अनिवार्यता नहीं है। यही नहीं जिंसों से संबंधित किसी ऐसे इंस्ट्रूमेंट में भी कारोबार किया जा सकेगा जिसका भौतिक रूप में कोई अस्तित्व ही नहीं है। इसके लिए कार्बन क्रेडिट और वैदर डेरिवेटिव को उदाहरण के रूप में लिया जा सकता है। वहीं इस अध्यादेश के बाद एफएमसी को वायदा कारोबार पर शुल्क लगाने की छूट मिल गई है। जिसे एक विशेष कोष में जमा किया जाएगा। इसके अलावा एफएमसी को जरूरत के मुताबिक निदेशकों और दूसरे अधिकारियों की नियुक्ितयां करने का अधिकार भी मिल गया है। वहीं वायदा कारोबार के बेहतर नियमन के लिए यह कारोबारियों पर अब मौजूदा 1000 रुपये की बजाय 25000 रुपये तक की पैनल्टी लगा सकेगा। इस कदम के बाद जिंस वायदा एक्सचेंजों में जहां सौदों के आकार बड़े हो सकेंगे वहीं यह एक्सचेंज अपने इंडेक्स भी शुरू कर सकेंगे। इसलिए मुंबई स्टाक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टाक एक्सचेंज के सूचकांकों बीएसई इंडेक्स और निफ्टी की तर्ज पर आने वाले दिनों एनसीडीईएक्स इंडेक्स और एमसीएक्स इंडेक्स जैसे सूचकांक सामने आ सकते हैं। इनमें कारोबार भी हो सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डिलीवरी नहीं होने वाले सौदों में भी वायदा