अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मायावती पर सरकारी तंत्र के दुरुपयोग का आरोप

उत्तर प्रदेश में विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आरोप लगाया है कि झांसी में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष और राज्य की मुख्यमंत्री मायावती की 2ानवरी को प्रस्तावित रैली में सरकारी मशीनरी का खुलकर दुरुपयोग किया जा रहा है। प्रदेश सरकार के कई मंत्री पिछले कई दिनों से बुन्देलखण्ड में डेरा डाले हुए हैं। आरोप लग रहे हैं कि इनके दबाव में प्रशासनिक मशीनरी पार्टी कार्यकर्ताओं की तरह काम कर रही है। बस चालकों से जबरन बस को अपने अधिकार में लिया जा रहा है। प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष और प्रवक्ता हृदय नारायण दीक्षित का कहना है कि परिवहन विभाग के अधिकारी बसों, जीपों और ट्रकों पर गैर कानूनी तरीके से कब्जा जमाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मायावती सरकार को भूख से मरने वालों की चिन्ता नहीं है। उनका यह भी कहना है कि कांग्रेस और बसपा की सियासी होड़ की कीमत मासूम जनता को चुकानी पड़ रही है। उधर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह का कहना है कि रैली जसे अनुत्पादक काम पर जनता का करोड़ों रुपया फूंका जा रहा है जबकि, इस धन से गरीबों का भला किया जाना चाहिए। केवल भीड़ जुटाने के लिए सरकारी तंत्र का दुरुपयोग किया जा रहा है। वैसे यह कोई पहला मौका नहीं है जब बसपा सरकार पर इस तरह के आरोप लग रहे हैं। बीते 10 अक्टूबर को लखनऊ के नवनिर्मित रमाबाई अम्बेडकर मैदान में बसपा की ‘सावधान रहो आगे बढ़ो रैली’ के दौरान भी ऐसे ही आरोप लगाए गए थे। तब मुफ्त बस सेवा नहीं मुहैया कराने के कारण परिवहन निगम के तत्कालीन प्रबन्ध निदेशक संजय भूस रेड्डी और परिवहन आयुक्त आर. के. तिवारी को उनके पदों से हटा दिया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मायावती पर सरकारी तंत्र के दुरुपयोग का आरोप