अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई बम कांड : याकूब मेमन की सजा पर रोक

सोमवार को उच्चतम न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण फैसले में याकूब मेमन की मौत की सजा अस्थाई तौर पर स्थगित कर दी। याकूब माफिया डॉन टाइगर मेमन का भाई है जिसके तार मुंबई मंे वर्ष 1में हुए विस्फोटों से जुड़े हैं। प्रधान न्यायाधीश केजी बालाकृष्णन की खंडपीठ ने अंजुम अब्दुल रजाक मेमन उर्फ ऐस्सा को भी जमानत दे दी। इसी बम कांड से जुड़े होने के कारण मुंबई की विशेष अदालत द्वारा उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। मुंबई बम कांड में 257 लोग मारे गए थे। खंडपीठ में जस्टिस तरुण चटर्जी और आरवी रवींद्रन भी शामिल थे। खंडपीठ ने छह अन्य मामलों की जमानत संबंधी याचिकाओं पर सुनवाई करनी है। इसे 5 फरवरी तक के लिए मुल्तवी कर दिया गया। याकूब को मुंबई बम कांड की साजिश रचने, बम कांड को वित्तपोषित करने और हथियार मुहैया करवाने का दोषी करार दिया गया था। ऐस्सा पर इस साजिश के लिए अपना घर प्रयोग करने की इजाजत देने और बम कांड मंे प्रयुक्त हथियारों को रखने का दोषी करार दिया गया था। ऐस्सा 12 साल की सजा काट चुका है और उसे जमानत दिए जाने पर सीबीआई द्वारा किसी प्रकार की कोई आपत्ति नहीं जताई गई है। अगले सप्ताह रूबीना सुलेमान और यूसुफ अब्दुल रजाक के अलावा सरदार शाहवाली खान, मुजामिल उमर जकादरी, खलील अहमद सजाद अली नजीर और जमीर सागर इस्माइल कादरी की जमानत पर सुनवाई होनी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुंबई बम कांड : याकूब मेमन की सजा पर रोक