अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पर्यटकों की सुरक्षा के लिए राज्य उठाएं जरूरी कदम

‘अतुल्य भारत’ के दावे पर लग रहे धब्बे से चिंतित केंद्र ने विदेशी पर्यटकों की सुरक्षा के लिए राज्य सरकारों को जरूरी कदम उठाने का निर्देश दिया है। पर्यटकों की सुरक्षा के लिए पूर्व सैनिकों की मदद लेने के अलावा महत्वपूर्ण ठिकानों पर पर्यटन पुलिस बलों को भी तैनात किया जाएगा। विदेशी पर्यटकों को लगातार निशाना बनाए जाने से परेशान पर्यटन मंत्रालय को राज्यों के पर्यटन सचिवों से ऐसे मामलों की जांच में तेजी लाने और उनकी सुनवाई फार्स्ट ट्रैक अदालतों में करने की अपील करनी पड़ी है। बैठक में पर्यटन मंत्रालय के अलावा गृह, रक्षा, नागरिक उड्डयन, रेलवे, सड़क परिवहन मंत्रालय के साथ दिल्ली पुलिस के आला अधिकारी भी शामिल हुए। बीते महीनों में उदयपुर, पुष्कर, केरल, गोवा और मुंबई आदि में विदेशी महिला पर्यटकों से बलात्कार, छेड़छाड़ और लूटपाट की अनेक घटनाओं ने सरकार को कड़े कदम उठाने पर मजबूर किया। पर्यटन सचिव एस. बनर्जी ने राज्यों को सुरक्षा संगठनों से प्रभावी मदद लेने को कहा है। केंद्र ने महत्वपूर्ण पर्यटन ठिकानों पर पर्यटन पुलिस की तैनाती के अलावा सुरक्षा संगठनों की मदद लेने का भी निर्देश दिया है। पर्यटकों की सुरक्षा के लिए किए जा रहे उपायों पर गृह मंत्रालय के एक वरिष्ट अधिकारी ने सोमवार को बताया कि इसके लिए रक्षा मंत्रालय के डायरेक्टरेट जनरल ऑफ रिसेटेलमेंट (डीजीआर) द्वारा तैयार ब्लू प्रिंट के मॉडल पर पूर्व सैनिकों को प्रशिक्षण देकर उन्हें सघन पर्यटन क्षेत्रों में तैनात किया जाएगा। वहीं, पर्यटन मंत्री अंबिका सोनी के अनुसार पर्यटन देश के आथिक विकास का न केवल एक प्रमुख जरिया है बल्कि यह रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने वाला सबसे सक्रिय क्षेत्र भी है। बीते साल पर्यटन उद्योग से भारत को 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर की आय हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पर्यटकों की सुरक्षा के लिए राज्य उठाएं जरूरी कदम