DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुपर स्पेशियलिटी इकाइयों को मिलेगा स्वतंत्र विभाग का दर्जा

राज्य के मेडिकल कालेजों में सुपर स्पेशियलिटी इकाइयों को स्वतंत्र विभाग का दर्जा मिलेगा। सरकार के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने इसे लेकर अरसे से चले आ रहे विवाद को खत्म करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। स्वास्थ्य सचिव दीपक कुमार ने बताया कि 31 मार्च तक विभिन्न विशिष्ट इकाइयों को पैतृक विभागों से अलग कर दिया जाएगा। इसके लिए वरीय शिक्षकों की समेकित वरीयता सूची तैयार की जा रही है जिसे 28 फरवरी तक अंतिम रूप दे दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि लगभग सभी वरीय शिक्षकों की वरीयता विभाग द्वारा लगभग तय कर दी गई है। शिक्षकों के लिए इस पर आपत्ति दर्ज करने के लिए 21 दिनों का समय दिया गया है। उसके बाद इसे फाइनल कर दिया जाएगा। श्री कुमार ने बताया कि राज्य के तीन मेडिकल कालेजों में सात सुपर स्पेशियलिटी इकाइयां विकसित की जा रही हैं। इनमें पीएमसीएच में 4, गया के एएनएमसीएच में 2 और दरभंगा में 1 विशिष्ट इकाई खुलेगी। इसके लिए विभाग द्वारा आधारभूत संरचना मुहैया कराने की कवायद शुरू कर दी गई है। इसके लिए भवन निर्माण की कंसल्टेंसी का जिम्मा एक निजी एजेंसी को दिया गया है। वहीं शिक्षकों और अन्य कर्मियों के पोस्ट क्रिएशन की कार्रवाई भी की जा रही है।ड्ढr ड्ढr एनएमसीएच के जीणर्ोद्धार पर खर्च होंगे 57.72 लाखड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। पटना स्थित एनएमसीएच के मुख्य भवन के जीर्णोद्धार सहित वहां अतिरिक्त सुविधाएं मुहैया कराने के लिए सरकार 57.72 लाख रुपए खर्च करेगी। इस अस्पताल के मुख्य भवन के तृतीय तल के जीर्णोद्धार के लिए 32 लाख, न्यू ब्वायज हास्टल के पास के बास्केट बॉल कोर्ट की मरम्मत के लिए 3.340 लाख, पुराने छात्रावास के पास बैडमिंटन कोर्ट की मरम्मत के लिए 2.350 लाख, मुख्य अस्पताल भवन के पास पोर्टिको के जीर्णोद्धार के लिए 2.5 लाख, जूनियर डाक्टरों के आवास से मुख्य भवन तक के पहुंच पथ के निर्माण के लिए 5.317 लाख एवं मुख्य भवन के भूतल स्थित इमरजेंसी वार्ड, ओटी और जेनरल ओटीके शेष कार्यो को पूरा करने के लिए 1.121 लाख रुपए प्राक्कलित किए गए हैं। कार्यो को 3 माह में पूरा कर लेना है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सुपर स्पेशियलिटी इकाइयों को मिलेगा स्वतंत्र विभाग का दर्जा