अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तर प्रियदर्शी व समझौता के मंचन से उठा नाटय़ोत्सव का पर्दा

अज्ञेय की कविता व मुक्ितबोध की रचना पर आधारित नाटकों उत्तर प्रियदर्शी व समझौता के मंचन से संगीत नाटक अकादमी,दिल्ली द्वारा आयोजित नाटय़ोत्सव का सोमवार को पर्दा उठा। बिहार आर्ट थिएटर व प्रांगण के सहयोग से आयोजित नाटय़ोत्सव में आगामी 3 फरवरी तक कुल 12 नाटकों का मंचन होगा। राज्य से छह, बंगाल से पांच व झारखंड से एक नाटक की प्रस्तुति होगी। प्रसिद्ध रंगकर्मी सतीश आनन्द, निरंजन गोस्वामी, सुबोध पटनायक,शशिधर आचार्य, डा.सुरेन्द्र स्निग्ध व डा.ओपी भारती न संयुक्त रूप से छह दिवसीय नाटय़ोत्सव का उद्घाटन किया। रंगमंच के दिग्गजों की उपस्थिति में नवोदित रंगकर्मियों ने अपनी प्रतिभा के जौहर दिखाए।ड्ढr ड्ढr कालिदास रंगालय के शकुंतला प्रक्षागृह में सोमवार की सुबह से ही नाटय़ोत्सव को देखने रंगकर्मियों व आम नाटय़प्रेमियों का जुटान शुरू हो गया था। सबस पहले प्रांगण के अभय सिन्हा ने निरंजन गोस्वामी का , फिर डा. स्निग्ध ने सतीश आनन्द का एवं डा. भारती ने शशिधर आचार्य व सुबोध पटनायक का पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया। इसके बाद ‘युवा रंगकर्मियों को सहायता’ के तहत आयोजित नाटय़ोत्सव में पहला नाटक ‘ उत्तर प्रियदर्शी’ का मंचन हुआ। बेगूसराय की नाटय़ संस्था ‘नटकिया’ की यह प्रस्तुति अज्ञय की कविता पर आधारित थी। संतोष कुमार राणा द्वारा निर्देशित इस नाटक में कलिंग विजय के बाद सम्राट अशोक के हृदय परिवर्तन को आधार बनाया गया है। इसमें विभिन्न किरदारों को सुजीत कुमार, अलख निरंजन विजय कृष्ण, संतोष राही, लालबाबू कुमार, चंदन कुमार, दिलीप भारद्वाज, आलोक रंजन, रवि मोहित,रंजीत मल्लिक, श्याम कुमार ने जीवंतता प्रदान की है। शाम में मुक्ितबोध की रचना पर आधारित नाटक समझौता का मंचन बेगूसराय की नाटय़ संस्था रंगनायक ने किया। प्रवीण कुमार गुंजन निर्देशित इस नाटक में एक बेरोजगार युवक की कहानी है। यह नाटक व्यावसायिकता की अंधी दौड़ में वास्तविकता के चेहरे पर समझौते के डाले गए मुखौटे को हटाने का संघर्ष भी है। व्यवस्था किस तरह अपनी शर्तो का चौसर बिछाकर किरदारों को गोटियां की तरह उछालती है। नाटक की प्रमुख भूमिकाओं में अवध कुमार ठाकुर सचिन इम्तियाजुल हक, विजेता शोखर, मोहित मोहन, ओमदत्त, लालबाबू कुमार व धर्मवीर आदि थे। संगीत परिकल्पना संजय उपाध्याय व संगीत निर्देश रंजीत राय की थी। पहले सत्र में आशीष कुमार मिश्र व दूसरे सत्र में शोमा सिन्हा ने मंच संचालन किया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उत्तर प्रियदर्शी व समझौता के मंचन से उठा नाटय़ोत्सव का पर्दा