DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मखदुमपुर में बच्चा चोर गिरोह धराया

जिला पुलिस को एक ऐसे गिरोह का पता चला है जो किशोर लड़कों से बच्चे चुरवा कर अन्य राज्यों में भेजने का काम करता है। पुलिस ने रविवार की रात सुनील कुमार नामक 16 वर्षीय किशोर को दो मासूम बच्चों के साथ मखदुमपुर स्टेशन के बाहर सुनसान मुसाफिर खाने से मौके पर उस समय गिरफ्तार कर लिया जब वह दो बच्चों को चुराकर भागने की फिराक में था।ड्ढr ड्ढr उसने स्थानीय मखदुमपुर डीह मुहल्ले से तीन वर्षीय सुनीत एवं छह वर्षीय रोहित को घुमाने के बहाने भगाकर लाया था और भागने के फिराक में था। पुलिस को सुनील से पता चला है कि इसके पहले चार बच्चों को कोलकता भेजा गया था। पुलिस अधीक्षक शाहरूख मजीद ने बताया कि बच्चा चोर सुनील को उसके चाचा ने दो बच्चों को का इंतजाम कर लाने को कहा था जिसके एवज में उसे उसे चाचा से चार हजार रुपए मिलने वाले थे। उसका चाचा उपेन्द्र मिस्त्री पटना मे रहता है। उन्होंने आशंका व्यक्त की कि बच्चों की स्मगलिंग करने वाला कोई रैकेट हो सकता है जो उससे भीख मंगवाने या किसी और कारण से बाहर भेजता हो। एसपी ने बताया कि सुनील द्वारा इससे पूर्व चार बच्चों को कोलकता भेजे जाने की बात बताई गई है। उन्होंने बताया कि पूरी छानबीन और चोर के चाचा की गिरफ्तारी के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। उन्होंने बताया कि चोर छोटा-मोटा पेटी क्राइम करने वाला है और पाकेटमारी के सिलसिले में एक बार जेल भी जा चुका है।ड्ढr ड्ढr दोनों बच्चे रविवार को की शाम घर के ही पास से लापता हो गए थे। उनके पिता अनिल कुमार को काफी खोज बीन के बाद भी अपने बच्चों का पता नहीं चल सका। रात करीब दो बजे पुलिस ने सूचना दी और उन्हें उनके बच्चों से मिलाया। मखदुमपुर पेट्रोलिंग पार्टी स्टेशन इलाके में घूम रही थी तभी सुनसान मुसाफिर खाने में एक लड़का नजर आया जिसने सीट के नीचे दोनों बच्चों को सुला रखा था। पुलिस को बच्चों के पैर नजर आए तो उन्हें संदेह हुआ और नजदीक गए तो दो बच्चे बरामद हुए। पूछताछ में सारी कहानी सामने आई । उसने बच्चों को सिंघाड़ा खिलाया और घुमाने के बहाने लेकर भागा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मखदुमपुर में बच्चा चोर गिरोह धराया