अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दोनों बोर्डो के संयुक्त बयान से खुला रास्तां

भारतीय क्रिकेट बोर्ड अधिकारियों और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट अधिकारियों ने दोस्ताना हल का रास्ता खोला। उन्हीं के संयुक्त प्रयास से आफ स्पिनर हरभजन सिंह पर लगे जातीय टिप्पणी के आरोप वापस हो गए। दोनों ही पार्टियों ने एक संयुक्त बयान दिया जिसमें कहा गया कि हरभजन सिंह ने एक आक्रामक टिप्पणी की थी पर वह जातीय टिप्पणी नहीं थी। खास बात यह थी कि ऑस्ट्रेलियाइयों ने यह स्वीकार किया कि उन्हें अब भारतीयों से कोई शिकायत नहीं है। सुनवाई के दौरान दोनों पार्टियों को एक अलग से व्यक्ितगत और एक बयान आमने सामने देने को कहा गया। बयान में सायमंड्स ने स्वीकार किया कि उन्होंने भड़काऊ भाषा बोल कर भारतीयों को उत्तेजित किया। इस बयान पर दोनों ही पार्टियों ने दस्तखत किए। इनमें सचिन तेंदुलकर और रिकी पोंटिंग भी थे। यह साफ तौर पर मामला सुझलाने का मंच बन गया था। पूरे मामले का आडियो और वीडियो पेश किया गया। जज के सामने इसे देखा व सुना गया। यह सब वही था जिसे सिडनी में सुना व देखा गया था। हरभजन पर सेक्सन 2.8 के तहत जुर्माना लगाने पर भारतीयों को कोई ऐतराज नहीं था। इस सेक्सन में खिलाड़ी पर आक्रामक भाषा का प्रयोग करने का मामला बनता है। सुनवाई के बाद अनिल कुंबले ने मीडिया के सामने आकर बोर्ड का आभार जताया। उन्होंने साथ ही उन लोगों का भी धन्यवाद किया जोकि संकट की घड़ी में टीम के साथ थे। कुंबले इस मामले को नहीं उठाना चाहते कि एंड्रयू सायमंड्स को यों ही क्यों छोड़ दिया गया जबकि हरभजन पर मैच की 50 प्रतिशत फीस का जुर्माना किया गया। उन्होंने इस मामले में कोई रुचि नहीं दिखाई कि भारतीय कैंप ने क्यों सायमंड्स पर उत्तेजित करने के लिए जुर्माना लगाने को क्यों नहीं कहा। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि अब आगे बढ़ जाने का समय है। इस मामले को ज्यादा खींचना ठीक नहीं। दोनों ही कप्तानों ने कहा कि वे निर्णय से संतुष्ट हैं और अब आगे क्रिकेट के मैदान में भिड़ने के लिए तैयार हैं। विज्ञप्ति में कहा गया है कि सिंह और सायमंड्स अब इस मामले में कोई भी सार्वजनिक बयान नहीं दे रहे और वे मैदान में अपने प्रदर्शन से लोगों का ध्यान खींचेंगे। आज का दिन सौरभ गांगुली के घर वापसी का और सात एकदिवसीय खिलाड़ियों के एडिलेड पहुंचने का रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दोनों बोर्डो के संयुक्त बयान से खुला रास्तां