DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जनता नेताआें से हिसाब माँगे:मायावती

बुंदेलखंड की धरती पर बसपा प्रमुख व मुख्यमंत्री मायावती ने कांग्रेस और उसके युवराज राहुल गांधी पर हमला बोला। आसमान में बादलों और धूप की आँखमिचौली व ‘यूपी तो हुई हमारी है, अब दिल्ली की बारी है’ जैसे गगनभेदी नारों के बीच बिस्कुटी रंग का लांग कोट पहने जब मुख्यमंत्री मायावती मंच पर पहुँची तबतक बसपा की बुंदेलखंड हकीकत विशाल रैली का आयोजन स्थल राजकीय इंटर कॉलेज का मैदान पूरा भर चुका था। उसके आसपास और सड़कों पर भी भीड़ समा नहीं पा रही थी।ड्ढr उत्साहित बसपा प्रमुख ने सबसे पहले बुंदेलखंड की बदहाली का ठीकरा कांग्रेस पर फोड़ते हुए कहा कि आजादी के बाद 38 साल यूपी में और अधिकांश समय केन्द्र में कांग्रेस की सरकार रही। 1साल भाजपा, सपा, रालोद आदि दलों का यूपी में राज रहा लेकिन इस दौरान इन दलों ने बुंदेलखंड के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए कुछ नहीं किया। यहाँ न तो पीने का पानी है और न ही खेतों के लिए सिंचाई का। मई में बसपा की सरकार बनने के बाद से उन्होंने समय-समय पर केन्द्र से पैकेज लेने की कोशिशों और न मिलने पर राज्य सरकार द्वारा अपने स्तर से कराए गए कायरे का ब्योरा भी दिया। फिर मौजूद जनता से अपील की कि दूसरे दलों के नेताआें से उनकी पार्टी द्वारा कराए गए कायरे का उनसे हिसाब माँगे। उन्होंने कहा कि हिसाब माँगने पर नेताआें का यहाँ आना बंद हो जाएगा। उन्होंने आरोप लगाया कि सपा के पिछले तीन वषरे के शासन में यहाँ सूखे से निपटने के लिए कोई काम नहीं हुआ। उन्होंने राज्यपाल के बुंदेलखंड दौरे, फिर उसके बाद केन्द्र से पैकेज दिलाने के बाबत राज्यपाल को पत्र लिखने का भी जिक्र किया।ड्ढr बसपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि पूरे देश में बसपा के जनाधार बढ़ने खासतौर पर गुजरात और हिमाचल प्रदेश में हारने के बाद कांग्रेस दुखी है। यूपी में उसका पहले ही सफाया हो चुका है। ऐसे में हताश कांग्रेस भाजपा की तरह उन्हें ताज कॉरिडोर या आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में फँसाने का षडयंत्र कर सकती है। उन्हें जेल भेज सकती है, लेकिन मैं झुकने वाली नहीं हूँ। उन्होंने कहा कि उनके जेल जाने से भी बसपा को ही फायदा होगा। उसका इतना जनाधार बढ़ जाएगा, जितना 10-12 साल में बढ़ता। उन्होंने आह्वान किया कि सवा साल बाद होने वाले लोकसभा चुनाव में बसपा को जिताए क्योंकि केन्द्र में बसपा की सरकार बनने पर ही उनकी समस्याआें का समाधान हो सकता है क्योंकि बाकी दलों की न तो गरीबों और न ही अनुसूचित जाति के लोगों के उत्थान में कोई रुचि है। उन्होंने राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के धन आवंटन में केन्द्र पर भेदभाव का भी आरोप लगाया। यह दावा भी किया कि उनके राज में बुंदेलखण्ड समेत समूचे प्रदेश में भूख से कहीं कोई मौत नहीं हुई है। माया के तोहफेड्ढr 2 50 हजार तक कृषि ऋण पर ब्याज माफ, बुन्देलखंड में कृषि विवि बनेगाड्ढr 2 पेंशन राहत के तहत सभी पात्र विधवा, वृद्धा व विकलांगों को पेंशन के लिए 20 करोड़ की अतिरिक्त व्यवस्थाड्ढr 2 गरीबों की विवाह सहायता के लिए 10 करोड़ की व्यवस्थाड्ढr 2 किसानों को 20 घंटे बिजलीड्ढr 2 कृषि यंत्रों के लिए 75 प्रतिशत अनुदानड्ढr 2 सूखी नहरों के निकट नलकूपों हेतु 40 करोडड़्ढr 2 कृषि बीमा योजना के लिए 10 करोड की व्यवस्थाड्ढr 2 आईटीआई खोलने के लिए 20 करोडड़्ढr 2 ललितपुर में 4 हजार करोड़ की थर्मल पावर योजनाड्ढr 2 इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मंच से ही झांसी के कांशीराम पैरामेडिकल कॉलेज व बांदा में 350 करोड़ से बनने वाले बाबा साहब अम्बेडकर मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास भी कियां

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जनता नेताआें से हिसाब माँगे:मायावती