DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नोट डबल करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

नोट दोगुना करने के नाम पर करोड़ों का वारा न्यारा करने वाले अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का राजधानी में मंगलवार को भंडाफोड़ किया गया। अलीगढ़ और पटना पुलिस (पत्रकारनगर थाना) के संयुक्त अभियान में नाटकीय तरीके से ग्राहक का छद्म वेश धारण कर एमआईजी कॉलोनी 152 में हुई छापेमारी के दौरान इस गोरखधंधे से जुड़े तीन शातिर सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया।ड्ढr ड्ढr इन आरोपितों में लक्खीसराय के रामाशीष कुमार और गौरीशंकर पांडेय के अलावा समस्तीपुरनिवासी पप्पू कुमार शामिल है। बिहार, बंगाल, उत्तरप्रदेश से लेकर देश की सरहद के बाहर नेपाल तक इस गिरोह से जुड़े धंधेबाजों का नेटवर्क फैला हुआ है। इस रैकेट से जुड़े अन्य गुर्गो को दबोचने के लिए पुलिस ने शहर के कई अन्य संदिग्ध अड्डों पर भी छापेमारी की हालांकि कोई सफलता नहीं मिली। संभव है पुलिस की भनक मिलते ही धंधेबाज निकल गये हों। बहरहाल गिरफ्तार आरोपितों को बुधवार को निचली अदालत में पेश करने के बाद अलीगढ़ पुलिस अपने साथ ले जाएगी। वहां पहले से ही कई शातिरों को 18 लाख रूपए की ठगी करने के आरोप में गिरफ्तार करके रखा गया है। दिलचस्प यह कि पकड़े गए पप्पू कुमार को पहले इसी धंधे से जुड़े चन्द्रशेखर ने 1.76 लाख रुपए का चूना लगाया। इसके बाद पप्पू भी इसी गिरोह से जुड़ कर ठगी के खेल में शामिल हो गया।ड्ढr ड्ढr जानकारी के अनुसार अलीगढ़ टाउन थाने की पुलिस ने इसी माह नकली नोटों को डबल करने के बहाने लोगों को कंगान बनाने वाले गिरोह के कई सदस्यों को गिरफ्तार किया। पूछताछ के दौरान गिरफ्तार आरोपितों से मिली जानकारी के बाद अलीगढ़ पुलिस के एसटीएफ एस.आे.जी. इंस्पेक्टर विरेन्द्र कुमार के नेतृत्व में आठ सदस्यीय टीम राजधानी पहुंची। छानबीन के दौरान पता चला कि तीनों एमआईजी कालोनी में मौजूद हैं। इसके बाद विशेीष रणीनति को तहत अलीगढ़, टाउन थाने के अधिकारी योगेश बालियान ने ग्राहक का छद्म रूप धारण करत मोबाइल पर नोट डबल करने की बात की। पहले तो धंधंबाजों ने इन्हें शहर के एक नामचीन होटल में बुलाया फिर एमआईजी आने की बात कही। सादे पोशाक में बालियान पांच लाख रुपए लेकर एमआईजी पहुंचे। पीछे से पत्रकारनगर थानाध्यक्ष निखिल कुमार के अलावा कई पुलिस अधिकारी व सुरक्षाकर्मी भी पहुचिं गये। गेट खुलने के बाद जैसे ही गोरखधंधे को पुलिअस ने सामने देखा और बिना देर किए सभी को धर दबोचा। इधर अलीगढ़ पुलिस के इंस्पोक्टर विरेन्द्र कुमार ने बताया कि नोट डबल करने वाले इस गिरोह के तार बिहार, झारखंड, उप्र, बंगाल के अलावा नेपाल से भी है। अलीगढ़ में इसी गिरोह के कई सदस्यों ने स्थानीय लोगों को लाखों की चपत लगाई है। दूसरी तरफ गिरफ्तार गौरीशंकर पाण्डेय ने बताया कि वह पिछले 10 वर्षों से इस धंधे से जुड़ा हुआ है। वहीं पप्पू ने कहा कि एक बार 1.76 लाख रुपए के ठगी का शिकार हो चुका हूं। फिर बाद में अपना खोया हुआ धन प्राप्त करने के लिए नोट डबल करने वाले लोगों से जुड़ गया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नोट डबल करने वाले गिरोह का भंडाफोड़