अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेतु समुद्रम से उत्पन्न खतरे से निपट लेंगे : नौसेना प्रमुख

सेतु समुद्रम परियोजना से देश की सुरक्षा को पैदा होने वाले खतरों को निपटने लायक बताते हुए नौसेना अध्यक्ष एडमिरल सुरीश मेहता ने शुक्रवार को कहा कि अगर किसी परियोजना से सुरक्षा के सरोकार जुड़े हों तो हम हाथ तो नहीं खड़े कर सकते। एडमिरल मेहता ने बताया कि बेशक सेतु समुद्रम परियोजना से कुछ सुरक्षा संबंधी चिंताएं जुड़ी हैं लेकिन इनसे निपटा जा सकता है। उन्होंने कहा कि खतरों से निपटने के लिए ही तो नौसेना और तटरक्षक बल हैं। खतरे हैं और उन्हें दूर रखने के लिए हम हैं। कोई परियोजना अच्छी हो तो सुरक्षा चिंताआें के कारण हम हाथ तो खड़े नहीं सकते। एडमिरल मेहता ने कहा कि तटरक्षक बल के महानिदेशक वायस एडमिरल रूसी कांट्रैक्टर ने भी तो यह नहीं कहा कि खतरे हैं तो उनसे वह निपट नहीं सकते। उन्होंने तो सिर्फ इससे जुड़ी सुरक्षा चिंताआें का ही जिक्र किया है। वायस एडमिरल कांट्रैक्टर ने गुरुवार को यह कहकर सेतु परियोजना को नया मोड़ दे दिया था कि इस के कारण सुरक्षा संबंधी कई खतरे देश के सामने आ सकते हैं। उनका कहना था कि यह परियोजना श्रीलंका की सीमा के एकदम नजदीक है जो लिट्टे विद्रोहियों से लोहा ले रहा है। उन्होंने संकरे मार्ग की आेर इशारा करते हुए तस्करी समेत विभिन्न तरह के समुद्री अपराधों की घटनाआें की आेर भी इशारा किया था। लेकिन नौसेना प्रमुख ने कहा कि सेतु समुद्रम बहुत अच्छी और व्यावहारिक परियोजना है जिससे पूर्वी और पश्चिमी तटों के बीच का फासला लगभग खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के पूरा होने पर 30 हजार टन तक के पोत श्रीलंका और भारत के बीच के जलडमरू मध्य से गुजर सकेंगे और इससे नौसेना को भी काफी लाभ होगा। सिर्फ टैंकर पोत या विमानवाही पोत ही वहां से नहीं निकल पाएंगे। श्रीलंका में लिट्टे विद्रोहियों से पैदा होने वाले खतरे के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि यह खतरा तो बिना परियोजना बने आज भी है और उससे निपटने की तैयारी भी हमारी है। उन्होंने इन आशंकाआें को भी खारिज किया कि नहर बनने से यातायात की समस्या पैदा हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘सेतु समुद्रम से उत्पन्न खतरे से निपट लेंगे’