DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किडनी डॉन के पीछे पड़ा इंटरपोल

गुड़गांव में बेनकाब हुए देश के संभवत: सबसे किडनी रैकेट के सरगना डॉक्टर अमित कुमार और उसके भाई जीवन राउत के खिलाफ इंटरपोल ने शुक्रवार को रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया। दोनों के कनाडा भागने की आशंका जताई जा रही है। इस बीच, मुरादाबाद पुलिस ने इस रैकेट में कथित रूप से शामिल एक एनेस्थीसिया विशेषज्ञ डॉ. के.के. अग्रवाल को राजस्थान के अलवर शहर से गुरुवार देर रात गिरफ्तार किया। अलवर का रहने वाले इस डॉक्टर ने डा. अमित के साथ पिछले ढाई साल में 150 मामलों में एनेस्थीसिया दिया। उसके एक अन्य सहयोगी डा. सूरज को भी पुलिस तलाश रही है। मुरादाबाद पुलिस की टीमें दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, हरियाणा और उत्तराखंड समेत कई राज्यों में धरपकड़ अभियान चला रही हैं। सीबीआई ने इंटरपोल से डॉ. अमित और डॉ. जीवन के खिलाफ वारंट जारी करने का अनुरोध करते हुए कहा था कि दोनों ने पिछले आठ साल के दौरान तकरीबन पांच सौ लोगों की किडनी ‘जबर्दस्ती’ निकालकर उनका प्रत्यारोपण कुछ विदेशियों समेत किडनी के मरीजों में किया और बदले में उनसे भारी-भरकम राशि ऐंठी। हरियाणा पुलिस अब तक गुड़गांव में अमित की छह संपत्तियां और आठ बैंक खातों को सील कर चुकी है। पुलिस ने डॉ. अग्रवाल के अलावा अमित के करीबी सहयोगी डॉ. उपेद्र, राम मनोहर लोहिया अस्पताल की एक नर्स और झोलाछाप डॉक्टर जगदीश समेत दस लोगों को गिरफ्तार किया है। अनेक अन्य डॉक्टरों व नर्सो से भी पूछताछ की गई।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: किडनी डॉन के पीछे पड़ा इंटरपोल