DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरार सांसद अतीक गिरफ्तार

रार सांसद अतीक अहमद को गुरुवार शाम दिल्ली के पीतमपुरा इलाके से पुलिस ने पकड़ लिया। उन्हें दो दिन की रिमांड पर इलाहाबाद लाने की मंजूरी दिल्ली की अदालत ने शुक्रवार को दे दी। यूपी की मुख्यमंत्री मायावती की हत्या की साजिश रचने और राजू पाल हत्याकांड समेत 173 मुकदमों में आरोपित रहे अतीक को शनिवार की रात तिहाड़ में रखा जाएगा और रविवार को दिल्ली पुलिस उन्हें लेकर उत्तर प्रदेश आएगी। सांसद अतीक ने अदालत में दलील दी थी कि यूपी पुलिस के हवाले करने पर उनका भी फर्जी एनकाउंटर कर दिया जाएगा। माफिया बृजेश के बाद दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने अतीक को गिरफ्तार किया है।ड्ढr ड्ढr ड्ढr फूलपुर क्षेत्र के मौजूदा सांसद और इलाहाबाद पश्चिम सीट से पाँच बार विधायक रहे अतीक पर इस समय यूपी पुलिस ने 20 हजार रुपए का इनाम घोषित कर रखा है। नौ मामलों में वह वांछित हैं और भगोड़ा घोषित किए जा चुके थे। एडीजी बृजलाल के मुताबिक अतीक की गिरफ्तारी पुलिस के लिए काफी अहम है। कुछ दिनपहले मुख्यमंत्री मायावती ने यह आरोप तक लगाया था कि कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेता अतीक जैसे माफिया को संरक्षण देकर उनकी हत्या का षड्यंत्र कर रहे हैं। इसके बाद इलाहाबाद पुलिस की आेर से उन्हें भगोड़ा घोषित किया गया। अतीक की गिरफ्तारी के लिए यूपी पुलिस की एक टीम काफी समय से दिल्ली में ही कैम्प कर रही थी पर गिरफ्तारी करने का श्रेय दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल को मिला।ड्ढr ड्ढr सूत्रों के मुताबिक यह गिरफ्तारी खुद अतीक ने ‘प्लांट’ कराई ताकि उनका एनकाउंटर न किया जा सके। इस बीच अतीक को दिल्ली से लाने के लिए सीआे प्रथम राजेश कुमार सहित पाँच सदस्यीय पुलिस दल शुक्रवार देर शाम दिल्ली रवाना हो गया। एसपी सिटी उदयशंकर जायसवाल ने बताया कि पिछले चार दिनों से करैली के थाना प्रभारी सुनील द्विवेदी और एक उपनिरीक्षक राजेश सिंह दिल्ली में ही अतीक की सुरागरशी में लगे हुए थे। उ.प्र. पुलिस ने जो बीस हजार का इनाम घोषित किया था, वह अब दिल्ली पुलिस को दिया जाएगा। दिल्ली-मुंबई में ले रखी थी शरणड्ढr नई दिल्ली (का.सं)। बसपा विधायक राजू पॉल की हत्या सहित 46 आपराधिक मामलों में शामिल होने के आरोपी इलाहाबांद के फरार सांसद अतीक अहमद पिछले आठ महीने से दिल्ली, एनसीआर व मुंबई में शरण लिए हुए था। विधायक हत्याकांड मामले में हुई गिरफ्तारी के बाद जेल से बाहर आने पर वह किसी भी तरीख पर अदालत में पेश नहीं हुआ। अदालत द्वारा भगोड़ा घोषित करने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस उसकी सरगर्मी से तलाश कर रही थी।ड्ढr ड्ढr ड्ढr पुलिस से बचने के लिए उसने ज्यादातर समय दिल्ली, एनसीआर व मुंबई में अपने जानकारों के गुप्त ठिकानों पर बिताए। एनसीआर में वह जहां फरीदाबाद व नोएडा में बिल्डरों व ठेकेदारों के यहां रहता था। वहीं दिल्ली के भी कई ठेकेदार उसके करीबी बताए गए हैं। स्पेशल सेल की टीम द्वारा पूछताछ में चौंकाने वाली बात यह सामने आई कि दिल्ली का एक ठेकेदार तो उसका इतना करीबी था कि अतीक ने उसे इलाहाबाद में भी कई ठेके दिलवाए थे। दिल्ली से इलाहाबाद जाकर ठेकेदारी करने वाले इस ठेकेदार ने ही उसे छिपने के लिए कई ठिकाने भी उपलब्ध कराए थे।ड्ढr ड्ढr ड्ढr स्पेशल सेल के संयुक्त आयुक्त करनैल सिंह के मुताबिक चूंकि अतीक को भगोड़ा घोषित किया गया था और उस पर ईनाम भी घोषित किया गया था, इस कारण राजधानी में उसकी गतिविधि को लेकर दिल्ली पुलिस ने पैनी नजर गड़ा रखी थी। दरअसल यह सूचना मिली थी कि उत्तर प्रदेश का भगोड़ा अतीक अहमद दिल्ली व एनसीआर के विभिन्न स्थानों पर आकर ठहरता है। सूचना के आधार पर उसे गिरफ्तार करने के बाद पुलिस टीम अब उसके दिल्ली व एनसीआर के करीबी साथियों से पूछताछ कर रही है। खासतौर से दिल्ली के दो ठेकेदार जिनके बारे में पुलिस को जानकारी मिली है कि वे अतीक से हमेशा संपक्र में रहते हैं। पुलिस का कहना है कि इन ठेकेदारों की भूमिका की जांच की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फरार सांसद अतीक गिरफ्तार