DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राम पर आपत्तिजनक टिप्पणी वाली पुस्तक पर रोक लगे

मुख्यमंत्री मायावती ने दिल्ली में चल रही एक विवादित पुस्तक पर प्रतिबंध के लिए प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को पत्र लिखा है। इस बारे में उन्होंने पत्रकारों को बताया कि उन्होंने लिखा है कि दिल्ली में लोगों ने धरना-प्रदर्शन कर इस पुस्तक के प्रति विरोध जताया है। इसलिए जिस किताब को लेकर कानून व्यवस्था बिगड़ रही है, उस पर तत्काल रोक लगाई जाए।ड्ढr मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि किताब लिखने वालों को भी यह हिदायत दी जाए कि इतिहास को तोड़-मरोड़कर न प्रस्तुत करें। इस पुस्तक में इतिहास को तोड़-मरोड़कर ऐसा कुछ वर्णित किया गया है जिससे लोगों में रोष है। मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी ऐसे लोगों के साथ है जो इतिहास के तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने वालों का विरोध कर रहे हैं, लेकिन वह चाहती हैं कि विरोध शांतिपूर्ण ढंग से किया जाए। उन्हें कानून-व्यवस्था को खराब नहीं करना चाहिए। उनकी सरकार विरोध करने वालों को प्रदेश में कानून-व्यवस्था को खराब करने की इजाजत नहीं देगी। हालाँकि मुख्यमंत्री ने पुस्तक में दी गई आपत्तिजनक सामग्री और उसके नाम का जिक्र नहीं किया। लेकिन पता चला है कि ए.के. रामानुजम द्वारा लिखित- ‘संस्कृति और प्राचीन भारत’ शीर्षक वाली इस पुस्तक में हिंदुओं के आराध्य राम और सीता को लेकर कुछ आपत्तिजनक लिखा गया है। दूसरी ओर मुख्यमंत्री ने भाजपा के चुनाव प्रचार वाली सीडी के प्रकरण में कहा है कि प्रदेश सरकार इस मामले को केंद्र सरकार के पास सीबीआई जाँच के लिए भेज चुकी है। अब इस मामले में चार्जशीट लगाना या न लगाना या आरोपियों को छोड़ देना, यह अधिकार केंद्र सरकार के पास चला गया है। केंद्र सरकार को ही इस मामले में कोई फाइनल निर्णय लेना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राम पर आपत्तिजनक टिप्पणी वाली पुस्तक पर रोक लगे