DA Image
15 जुलाई, 2020|1:39|IST

अगली स्टोरी

चावला को बचाने में जुटी है सरकार : भाजपा

भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग के तीनों सदस्यों को बराबरी पर लाने के नाम पर संविधान में संशोधन करने की केंद्र की घोषणा को विवादास्पद आयुक्त नवीन चावला के बारे में दर्ज याचिका को निर्थक करने की चाल करार दिया है। पार्टी महासचिव अरुण जेटली ने कहा है कि केंद्र का यह फैसला चिंताजनक है और उनकी पार्टी संविधान के अनुच्छेद 324 (5) के तहत श्री चावला को चुनाव आयुक्त के पद से हटाए जाने की मांग पर दृढ है। भाजपा नेता ने कहा कि श्री चावला को हटाए जाने की मांग चुनाव आयुक्त बनने से पूर्व उनके पक्षपातपूर्ण रवैए को लेकर की जा रही है। श्री जेटली ने कहा कि आज भी चुनाव आयोग के सदस्य के तौर पर उनका रवैया पक्षपातपूर्ण है। श्री जेटली ने कहा कि श्री चावला की कांग्रेस और उसके नेताआें के साथ नजदीकी से सही सोंच वाले लोगों के दिमाग में यह आशंका पैदा होना स्वाभाविक है कि वह चुनाव आयोग के सदस्य के तौर पर निरपेक्ष और निष्पक्ष भाव से काम नही कर सकते। श्री जेटली ने कहा कि श्री चावला के बारे में दर्ज याचिका में आपातकाल के दौरान उनकी भूमिका तथा शाह आयोग की टिप्पणियों का व्यापक तौर पर जिक्र किया गया है। इसमें उनके उच्च पद हथियाए जाने, सांसद निधि से अपने निजी ट्रस्टों के लिए कांग्रेसी सांसदो से धन हासिल करने तथा चुनाव आयोग के सदस्य के तौर उनकी पक्षपातपूर्ण भूमिका का भी भरपूर उल्लेख है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: चावला को बचाने में जुटी है सरकार : भाजपा