अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युवाओं को थोड़ा समय तो दीजिए : धोनी

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने सीबी त्रिकोणीय सीरीज में मैच के बाद अपनी युवा टीम का बचाव किया। वह युवा खिलाड़ियों के निराशाजनक प्रदर्शन को लेकर बिल्कुल भी हतोत्साहित नहीं हैं। धोनी ने कहा, ‘अगर हमभविष्य की टीम बनाना चाहते हैं तो यह जरूरी है कि 2011 विश्व कप तब तक हमारे खिलाड़ियों के पास 80-100 मैचों का अनुभव हो। उन्हें (युवाआें) सही मौके और प्रदर्शन के लिए मंच की जरूरत है। इसके लिए हमें उन्हें थोड़ा समय देना होगा।’ धोनी इस बात से विचलित नहीं हैं कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया जैसी मुश्किल जगह पर अनुभवी सौरभ गांगुली और राहुल द्रविड़ की जगह युवाआें को आजमाया। क प्तान ने साथ ही कहा कि अब यह युवा खिलाड़ियों पर निर्भर है कि वे खुद को कितना साबित कर पाते हैं और यहां की परिस्थितियों तथा दो चोटी की टीमों के खिलाफ दबाव को कितना झेल पाते हैं। यदि वे साहस के साथ अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो उनके लिए अच्छे भविष्य का रास्ता खुल जाएगा। रद्द हुए मैच के लिए भारतीय कप्तान ने कहा कि तेज गेंदबाजों द्वारा एक समय जल्दी-जल्दी तीन ऑस्ट्रेलियाई विकेट निकाल लेने के कारण मैच संतुलन में आ गया था। धोनी ने कहा, ‘ईशांत शर्मा और श्रीसंत ने वर्षा के कारण दूसरी बार खेल रोकेजाने के बाद काफी अच्छी गेंदबाजी की। दोनों गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को खासा परेशान किया।’ उन्होंने कहा कि गेंदबाजों के इस प्रदर्शन से मैच का पलड़ा कुछ हद तक भारत की तरफ भी मुड़ गया था। कप्तान ने हालांकि साथ ही कहा, ‘ऑस्ट्रेलिया के लिए लक्ष्य यादा बड़ा और चुनौतीपूर्ण नहीं था। एक अच्छी पारी मैच का रुख बदल सकती थी।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: युवाओं को थोड़ा समय तो दीजिए : धोनी