DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर किसान अपने उत्पाद का भाव खुद तय करेगा

बिचौलिया व दलाल अब किसान की खून-पसीने की कमाई को बेरहमी से लूट नहीं पायेंगे। यहां तक कि उनके उत्पादों को खरीदने के लिए दलाल या विचौलिए गांवों में फटकेंगे तक नहीं। बाजार में मंदी और तेजी का बहाना बनाकर अब किसानों को ठगना भी उनके लिए आसान नहीं होगा। गांव का हर किसान अब अपने उत्पाद का भाव खुद तय कर सकेगा क्योंकि गांव में या उसके आसपास ही उसका अपना बाजार होगा। बाजार में खरीदारों को आकर्षित करने के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।ड्ढr ड्ढr राज्य बागवानी मिशन के तहत ऐसे बाजारों के निर्माण के लिए सरकार निजी एवं सहकारी क्षेत्रों को प्रोत्साहित करने में जुटी है। बाजार का निर्माण करने को इच्छुक व्यक्ित या संस्था को सरकार अनुदान भी देगी और उनको बागवानी उत्पादों के लिए ग्रामीण बाजार, अपनी मंडी या प्रत्यक्ष बाजार के निर्माण की छूट होगी।ड्ढr सरकार के अनुमान के अनुसार इसमें 15 लाख रुपये की लागत आयेगी। सामान्य क्षेत्रों में परियोजना की पूंजीगत लागत का 25 प्रतिशत राशि कैड्रिट लिंक्ड बैंक एंडिड सब्सिडी के रूप में दी जायेगी। यानी सब्सिडी का भुगतान तभी होगा जब लाभार्थी बैंक से लिए गये ऋण का भुगतान समय पर कर देंगे। सरकारी अथवा निजी क्षेत्रों के कोऑपरेटिव , निबंधित सोसाइटी, ट्रस्ट एवं इन्कारपोरेटेड कंपनी के लिए बैंक एंडिड भुगतान की बाध्यता नहीं होगी। शर्त यह होगी कि शेष राशि का वहन वे खुद करेंगे और इसके लिए बैंक की मदद नहीं लेंगे। इन्हीें शर्तों पर सरकार उत्पादों के संग्रहण, ग्रेडिंग के प्रायोगिक बुनियादी ढांचा निर्माण के लिए भी अनुदान देगी। बागवानी मिशन के निदेशक सनद कुमार जयपुरियार बताते हैं कि इस योजना के तहत पूर्व से चल रहे हाटों को भी विकसित करने के लिए मदद दी जायेगी।ड्ढr सरकार की मंशा है कि किसानों को बिचौलियों से मुक्ित मिले और वे अपने उत्पाद का उचित मूल्य पा सकें। बाजार में एक साथ सभी किसान जुटेंगे तो रेट भी वे खुद तय कर सकेंगे और फिर कोई बिचौलिया उन्हें ठग नहीं सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हर किसान अपने उत्पाद का भाव खुद तय करेगा