DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंबेडकरनगर के अवैध कैम्प में भी गई कई नेत्रों की ज्योति

एक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर अवैध ढंग से ‘आई कैम्प’ लगाकर अज्ञात चिकित्सक गरीब मरीजों की आँखों का ऑपरेशन कर चलते बने। ऑपरेशन के बाद कई मरीज अंधे हो गए। हैरत की बात है कि स्वास्थ्य महकमे को इसकी खबर तक नहीं है। बताया जा रहा है कि ऑपरेशन करने वाले कथित चिकित्सकों ने उस दिन शराब पीकर हंगामा भी किया था। डीएम ने दो लोगांे के आँख की रोशनी जाने की पुष्टि की है। उन्होंने मामले की जाँच के आदेश दे दिए हैं। महानिदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य डॉ. एलपी प्रसाद ने बताया कि वह बरेली में हैं। सोमवार को लौटकर इस मामले की जाँच करेंगे।ड्ढr पिछले दिनों जलालपुर कस्बे में लाउडस्पीकर के जरिए इस आई कैम्प का प्रचार किया गया। प्रचार में ग्राम्य विकास जन सेवा समिति, सिझौली के तत्वावधान में नामी-गिरामी डॉक्टरों के आने की सूचना भी दी गई थी। जरूरतमंद आए। आपरेशन भी हुए। मजे की बात है कि ऑपरेशन के बाद पीड़ितों का हालचाल लेने की जहमत तक संस्था ने नहीं उठाई।ड्ढr आँखों का ऑपरेशन मुफ्त में होना था। इसीलिए गरीब मरीज भारी संख्या में ऑपरेशन कराने नगपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर पहुँचे। ये ऑपरेशन 10 जनवरी की रात में किए गए। ऑपरेशन के बाद बची रोशनी भी खो चुके बुजुर्ग अब्दुल अजीज सिद्दीकी ने ‘हिन्दुस्तान’ को बताया कि उस रात करीब तीन दर्जन मरीजों का ऑपरेशन हुआ। वह बताते हैं कि सुबह होते ही कथित चिकित्सक नाश्ता करने जाने के बहाने भाग गए।ड्ढr उधर, डॉक्टरों के जाने के बाद मरीजों ने भी काफी रोना-धोना किया था। ऑपरेशन के बाद अब मरीजों की हालत काफी बिगड़ चुकी है। पता चला कि कथित चिकित्सकों ने न तो कोई लेन्स प्रत्यारोपण किया, न सही आपरेशन। ऑपरेशन से मरीजों के आँखों की बची-खुची रोशनी भी चली गई है। किसी की आँख से खून निकल रहा है तो कोई दर्द से कराह रहा है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अंबेडकरनगर के अवैध कैम्प में भी गई कई नेत्रों की ज्योति