अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बल्लेबाजी सुधारनी होगी भारत को

भारत को पिछले दो मैचों में अपने बल्लेबाजों के कारण नीचा देखना पड़ा। इसलिए भारत के युवा बल्लेबाजों को मंगलवार को सीबी त्रिकोणीय क्रिकेट सीरीज के दूसरे मैच में श्रीलंका के खिलाफ खुद को साबित करना होगा। ज्यादातर बल्लेबाज ट्वेंटी 20 और त्रिकोणीय सीरीज के लिए टीम में शामिल किए गए हैं। यही वजह है कि वह ऑस्ट्रेलियाई परिस्थितियों में खुद को ढाल नहीं पाए हैं। भारत ने सौरभ गांगुली और राहुल द्रविड़ जैसे वरिष्ठ खिलाड़ियों को भविष्य के मद्देनजर टीम में शामिल नहीं किया। लेकिन इसका लाभ अभी तक देखने को नहीं मिला है। युवा खिलाड़ी अभी तक कोई प्रभाव छोड़ने में असफल रहे हैं। मेहमान टीम मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ट्वेंटी 20 मैच में केवल 74 रन पर ढेर हो गयी थी। भारतीय टीम गाबा के इसी मैदान पर रविवार को बारिश के कारण रद्द हुए मैच में सिर्फ 1रन बना कर आउट हो गयी थी। बेशक भारत ने रद्द मैच में ऑस्ट्रेलिया के तीन विकेट सिर्फ 51 रन पर गिरा दिए थे। लेकिन उसे अच्छी तरह पता होगा कि आधुनिक क्रिकेट में 200 रन से कम योग पर मैच जीतने की उम्मीद नहीं की जा सकती। हालांकि गौतम गंभीर और मनोज तिवारी पिछले मैच में उम्मीदों पर खरे उतरे थे। लेकिन रााबिन उथप्पा और मनोज तिवारी जैसे बल्लेबाजों ने निराश किया। अपने पड़ोसी श्रीलंका को टक्कर देने के लिए उसे बल्लेबाजी में काफी सुधार करना होगा। बाएं हाथ केधाकड़ बल्लेबाज युवराज सिंह भारत की उम्मीदों केकेन्द्र होंगे। युवराज कंधे की चोट के कारण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नहीं खेल सके थे। अगर वह श्रीलंका केखिलाफ खेल सके तो इससे बल्लेबाजी में भारत के मनोबल में काफी इजाफा होगा। ऐसी स्थिति में तिवारी को बाहर बैठना पड़ सकता है। सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और रोहित शर्मा संभवत: अपने क्रम पर उतरेंगे। धोनी और उथप्पा के बल्लेबाजी क्रम में भी बदलाव की उम्मीद नहीं है। सहवाग और तेंदुलकर अगर टीम इंडिया को अच्छी शुरुआत देने में कामयाब रहें तो भारत फटाफट क्रिकेट के अपने खराब फार्म से उबर सकता है। श्राीलंका की टीम लगभग चार महीनों बाद एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रही है। उसने अपनी पिछली एकदिवसीय सीरीज में अक्टूबर में इंग्लैंड को अपने देश में 4-1 से हराया था। भारत ने श्रीलंका के खिलाफ अपने पिछले छह में से पांच मैच जीते हैं। इसके अलावा पिछले साल के अंत में अपने देश में ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के खिलाफ एकदिवसीय सीरीज खेल भारतीय टीम लय में है। लेकिन मुथैया मुरलीधरन, कुमार संगकारा, चामिंडा वास, माहेला जयवर्धने, सनत जयसूर्या और लसित मलिंगा जैसे सितारों से सजे श्रीलंका को हराना भारत के लिए आसान नहीं होगा। संगकारा, जयवर्धने और जयसूर्या के अलावा चामरा सिल्वा और तिलकरत्ने दिलशान श्रीलंका की बल्लेबाजी का बीड़ा उठाएंगे। दिग्गज आफ स्पिनर मुरलीधरन और तेज गेंदबाजों वास और मलिंगा के रहते गेंदबाजी में श्रीलंका का पलड़ा भारी लगता है। भारत की गेंदबाजी इरफान पठान, शांतकुमारन श्रीसंत और हरभजन सिंह के कंधों पर टिकी होगी। इस बीच मुरलीधरन और श्रीलंका टीम के कुछ अन्य सदस्यों पर गुरुवार को होबार्ट में हुए हमले के बाद श्रीलंकाई खिलाड़ियों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पिछले मैच की तरह इस मुकाबले पर भी खराब मौसम का खतरा मंडरा रहा है। लेकिन अगर मौसम मेहरबान रहा तो दोनों टीमों के बीच रोमांचक संघर्ष देखने को मिल सकता है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बल्लेबाजी सुधारनी होगी भारत को