अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयुक्त की गुगली-मेयर बोल्ड

आखिरकार लंबी जद्दोजहद के बाद नगर आयुक्त राणा अवधेश सिंह की ‘गुगली’ पर मेयर संजय कुमार क्लीन बोल्ड हो गये। पस्त मेयर ने घुटने टेकते हुए बोर्ड की पिछली बैठक में नगर आयुक्त की सेवा वापसी के पारित प्रस्ताव को वापस ले लिया और कहा कि यह प्रस्ताव वापस लेना नगर निगम के हित में हैं। उन्होंने नगर निगम के मुख्य अभियंता को पांच दिनों के अंदर सभी वाडरे में 25-25 बल्ब लगाने का निर्देश दिया।ड्ढr ड्ढr कार्य पूरा किये बिना बल्ब लगाने वाले ठेकेदार को भुगतान नहीं करने का निर्देश दिया। मेयर ने कहा कि सभी वाडरे को मॉडल बनाया जायेगा। इसके पूर्व सोमवार को बैठक शुरू होते ही नगर आयुक्त की सेवा वापसी के पारित प्रस्ताव की संपुष्टि को लेकर मेयर व पार्षदों में जमकर नोकझोंक हुई। नगर आयुक्त की सेवा वापसी के मामले पर कोई खुलकर सामने आने को तैयार नहीं था। पार्षद विनय कुमार पप्पू, संजय कुमार सिंह, आभा लता, कृष्णमुरारी यादव व हेमलता वर्मा आदि ने कहा कि मेयर के इशारे पर नगर आयुक्त की सेवा वापसी का प्रस्ताव पारित किया गया था। वहीं मेयर, डिप्टी मेयर व पार्षद रूपनारायाण आदि ने कहा कि सेवा वापसी का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया गया था, मेयर पर आरोप लगाना गलत है। इस मामले पर अपने को कमजोर होता देखकर मेयर बैकफुट पर आ गये और नगर आयुक्त की सेवा वापसी के पारित प्रस्ताव की वापसी का प्रस्ताव कर दिया। मेयर के प्रस्ताव पर पार्षदों ने भी सहमति दे दी। गौरतलब है कि डिप्टी मेयर की अध्यक्षता में नगर आयुक्त की सेवा वापसी का प्रस्ताव पारित किया गया था। बैठक में नगर आयुक्त शामिल नहीं हुए। ड्ढr नटराजन को दबोचने गई पुलिस खाली हाथ लौटीड्ढr पटनारांची (का.सं.हि.ब्यू.)। झारखंड कैडर के आइपीएस अधिकारी ए. नटराजन को गिरफ्तार करने रांची गई बिहार एसटीएफ की टीम खाली हाथ लौट आई। श्री नटराजन झारखंड सीआइडी में एसपी हैं। भागलपुर में उनके विरुद्ध मामला दर्ज है और इस मामले की पांच फरवरी को सुनवाई होनी है। इसमें मुख्य आरोपी तत्कालीन एसपी ए, नटराजन को गिरफ्तार करने का आदेश भागलपुर पुलिस को दिया गया था। इसबीच पटना में आई.जी. (ऑपरेशन) एस. के. भारद्वाज ने बताया कि एसटीएफ टीम नटराजन को गिरफ्तार करने गई थी हालांकि वे नहीं मिले। इसके बाद कुर्की की कार्रवाई कर दस्ता लौट आया।ड्ढr कोर्ट ने यह भी निर्देश दिया है कि अगर नटराजन गिरफ्तार नहीं होते हैं, तो उनके रांची स्थित आवास को कुर्क कर दिया जाये। आठ जनवरी को इस मामले में सुनवाई हुई थी। भागलपुर एसपी जेएस गंगवार ने श्री नटराजन को गिरफ्तार करने के लिए एसटीएफ का गठन किया है, जिसमें डीएसपी इंदु भूषण और अन्य पुलिस अधिकारी शामिल हैं। चार फरवरी को बिहार पुलिस की टीम यहां अपराध अनुसंधान विभाग में पहुंची। उस समय नटराजन अपने कार्यालय में थे। उन्हें इसकी भनक लग गयी। वे वहां से निकल गये। इसके बाद सीआइडी के एडीजीपी आरसी कैथल से मिल कर बिहार पुलिस के अधिकारियों ने गिरफ्तारी वारंट और कुर्की का आदेश दिखाया। बाद में रांची के एसएसपी एमएस भाटिया को भी घटना की सूचना दी गयी। इसके बाद डोरंडा पुलिस के सहयोग से नटराजन के सरकारी आवास को कुर्क किया गया है। इस मामले में श्री नटराजन की अग्रिम जमानत याचिका ऊपर की अदालत में खारिज हो चुकी है। भुक्तभोगी अधिवक्ता सुभाषचंद्र पांडेय ने आइपीएस अधिकारी समेत एक दर्जन पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाया है। बोरिंग रोड में बदलेगी यातायात की तस्वीरड्ढr पटना (का.सं.)। पटना की ध्वस्त ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने और बोरिंग रोड को जाम से निजात दिलाने के लिए यातायात पुलिस ने विशेष रणनीति बनाई है। ‘वीआईपी’ इलाके की इस सड़क पर जाम के सबसे अहम कारण को ‘टारगेट’ किया गया है। इसके तहत सड़क के बीचोंबीच बने डिवाइडरों के खाली स्थानों को जंजीरों से जकड़ने की योजना है। हालांकि यह घेराबंदी ‘पीक ऑवर’ के समय में ही रहेगी। साथ ही छुट्टी के दिनों में यह व्यवस्था लागू नहीं होगी। अगले कुछ दिनों में इस योजना को अमल में लाने की तैयारी ट्रैफिक पुलिस ने आरंभ कर दी है। उल्लेखनीय है कि सड़क जाम के खिलाफ ‘हिन्दुस्तान’ दैनिक द्वारा छेड़े गये सघन अभियान में बोरिंग रोड की इस समस्या को प्रमुखता से उठाया गया था और आखिरकार यातायात पुलिस ने स्थिति की गंभीरताको भांपते हुए यह अहम कदम उठाया है। सोमवार को ट्रैफिक एसपी प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि कुछ जगहों (ए.एन. कॉलेज, तपस्या कॉम्प्लेक्स आदि) को छोड़कर अब डिवाइडरों के बीच सभी खाली स्थानों यथा कृष्णा अपार्टमेंट, यमुना अपार्टमेंट आदि जगहों पर अस्थायी तौर से जंजीर लगा दिया जायेगा। ‘पीक आवर’ में सुबह 0 बजे से देर शाम 7.30 बजे तक जंजीर से घेराबंदी होगी। इसके बाद जंजीर हटा ली जायेगी। जाड़े के मौसम में सुबह 10 बजे से यह व्यवस्था लागू होगी। दूसरी तरफ हड़ताली मोड़ पर किये गये ट्रैफिक परिवर्तन का असर आयकर गोलंबर तक दिखने लगा है। हड़ताली मोड़ से आयकर गोलंबर की ओर बेली रोड में मिनीडोर और नगर सेवा की बसों का परिचालन प्रतिबंधित करते हुए दारोगा राय पथ होकर खोले गये नये रास्ते के कारण कुछ इलाकों में अपेक्षाकृत हालात सुधरे हैं। विशेषकर हाईकोर्ट चौराहा और आयकर गोलंबर पर स्थिति थोड़ी ठीक हुई है जिससे ट्रैफिक का दबाव भी कम हुआ है। इन इलाकों में वाहनों की अवैध पा*++++++++++++++++++++++++++++र्*ंग पर भी यातायात पुलिस की पैनी नजर है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एक नजर