DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नकल की तो साल भर के लिए बाहर

विश्वविद्यालय और महाविद्यालय की परीक्षाआें में इस बार नकल करते कोई पकड़ा गया तो हर हाल में उसे पूरे साल के लिए परीक्षा से बाहर कर दिया जाएगा। पुलिस व प्रशासन इसमें पूरी मदद करेंगे। इसके लिए शासन स्तर पर सभी मंडलायुक्तों व जिलाधिकारियों को निर्देश भेजे जाएँगे। कुलपति भी इन अफसरों से तालमेल रखें। मंगलवार को कुलपति सम्मेलन में उच्च शिक्षामंत्री डॉ. राकेशधर त्रिपाठी ने सुझाव दिया कि बैकपेपर और इम्प्रूवमेंट परीक्षाएँ मुख्य परीक्षाआें के साथ ही कराई जाएँ ताकि पूरे साल सिर्फ परीक्षाएँ न चलती रहें।ड्ढr डॉ. राममनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में आयोजित कुलपति सम्मेलन में लखनऊ विवि के कुलपति प्रो. एएस बरार ने नकल विहीन परीक्षा की तैयारियों की चर्चा की। प्रो. बरार ने बताया कि उन्होंने तय किया है कि जो लड़का नकल करते पकड़ा जाएगा, उसे साल भर के लिए बाहर कर दिया जाएगा। नकल रोकने के लिए ‘प्रिवेंशन’ के साथ ‘पनिशमेंट’ भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि कुछ कॉलेज कोर्स न पूरा होने के कारण चाहते हैं कि परीक्षा तिथि बढ़ा दी जाए, लेकिन यह बात नहीं मानी जाएगी।ड्ढr उच्च शिक्षामंत्री ने अन्य विश्वविद्यालयों से भी कहा कि वे इसी तरह सख्ती से नकल रोकें। नकलविहीन परीक्षा और शैक्षिक कैलेंडर के पालन के संबंध में सभी कुलपतियों ने कहा कि मार्च के प्रथम सप्ताह में परीक्षाएँ शुरू होकर मई मध्य तक समाप्त हो जाएँगी। 30 जून तक परिणाम आ जाएगा। उच्च शिक्षा मंत्री ने केन्द्रीय मूल्यांकन कड़ाई से लागू करने के साथ यह सुनिश्चित करने को कहा कि कोशिश हो कि सभी कापियाँ विश्वविद्यालय में ही जाँची जाएँ। जहाँ स्थान की समस्या है, वहाँ भी जिले से बाहर कॉपियाँ न भेजें। डॉ. राम मनोहर लोहिया विवि के कुलपति का सुझाव था कि तीन साल से कम अवधि, 500 से कम छात्र संख्या और अनानुमोदित प्राचार्य वाले कॉलेज परीक्षा केन्द्र न बनाए जाएँ। मंत्री ने इस पर सहमति जताई।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नकल की तो साल भर के लिए बाहर