अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोबाइल जाम कर देगा माया का काफिला

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सुश्री मायावती का कारकेड बुधवार को जिन-जिन रास्तों से गुजरेगा या जहां खड़ा होगा उसके आसपास के मोबाइल काम करना बंद कर देंगे। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि अभूतपूर्व सुरक्षा घेरे में रहने वाली मायावती के कारकेड मंे शामिल एक गाड़ी मंे जैमर लगा रहेगा। इसके कारण काफिले मंे शामिल गाड़ियों पर सवार लोगों के मोबाइल काम नहीं ही करेंगे, जिन-जिन रास्तों से यह गाड़ियां गुजरेंगी वहां सौ मीटर की परिधि में कार्यरत मोबाइल और रिमोट सिगनल वाले सभी उपकरण थोड़ी देर के लिए काम करना बंद कर देंगे।ड्ढr ड्ढr खासकर गांधी मैदान जहां मायावती की सभा होनी है, वहां उनके आने से जाने तक के बीच इस जैमर का प्रभाव रहेगा। मायावती के कारकेड मंे शामिल होने के लिए पांच अम्बेसडर कार और जैमर लगी सफारी गाड़ी सोमवार की रात पटना पहुंच गई। इन सभी गाड़ियां को पहले पुलिस लाइन मंे रखा गया हैं जहां से मंगलवार को दोपहर बाद इन गाड़ियों को गांधी मैदान ले जाया गया जहां बुधवार को मायावती की सभा होनी है।उत्तर प्रदेश से राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) और कोबरा कमांडों सहित लगभग पांच दर्जन विशेष सुरक्षाकर्मी भी पटना पहुंच चुके हैं जो मायावती की सुरक्षा की कमान संभालंेगे। ये सुरक्षाकर्मी कारकेड गाड़ियों पर भी सतत् नजर रख रहे हैं ताकि कोई संदिग्ध व्यक्ित उसके पास नहीं फटके। यहां तक कि बिहार पुलिस के जवानों को भी इन गाड़ियों के पास जाने की इजाजत नहीं है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार जैमरयुक्त गाड़ी वाला कारकेड प्रधानमंत्री के काफिले में होता है। पूर्व मंे राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति का तीन बार पटना आगमन हुआ पर उनके काफिले में भी जैमर-वैन नहीं थी। मायावती का काफिला दूसरी बार पटना के नागरिकों को जैमर की भूमिका का एहसास कराएगा। इसके पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी बाजपेयी के पटना दौरे के क्रम में जैमरयुक्त वाहन पटना आया था। बिहार सरकार के पास इस तरह की कोई जैमर युक्त गाड़ी नहीं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मोबाइल जाम कर देगा माया का काफिला