DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फँस रहे हैं सीएमआे, संस्था और सीएचसी के डॉक्टर!

अंबेडकरनगर की नगपुर सीएचसी में आयोजित नेत्र शिविर प्रकरण पर संस्था से लेकर सीएमआे व सीएचसी के डॉक्टर फँसते नजर आ रहे हैं। जाँच में संस्था को अनुमति प्रदान करने का आधार न पेश करने के कारण सीएमआे डॉ. आरपी सिंह पर विभागीय कार्रवाई तय मानी जा रही है। सीएचसी के एक चिकित्सक व फार्मासिस्ट के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की गई है।ड्ढr वहीं मामले में लखनऊ के एक नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. दीपक लखमानी का नाम आने के कारण विभाग ने उनकी तलाश शुरू कर दी है। खुलासा हुआ है कि आई-कैम्प में ऑपरेशन के दिन सीएचसी के डॉक्टर और स्टाफ संस्था को ऑपरेशन थियेटर की चाभी देकर चले गए थे।ड्ढr खुलासा यह भी हुआ कि सीएमआे ने संस्था को अनुमति देने से पूर्व ऑपरेशन के लिए जरूरी मानव संसाधन व अन्य का सत्यापन भी नहीं कराया। यही नहीं, मामले के उजागर होने के 48 घंटे बाद भी विभाग एडी को मरीजों की सूची और संस्था के जिम्मेदार लोगों के नाम नहीं उपलब्ध करा सका है।ड्ढr शासन को भेजी गई प्रारंभिक जाँच रिपोर्ट में सीएमआे व सीएचसी स्टाफ की भी लापरवाही सामने आई है। एडी डॉ. एएच खान ने बताया कि सीएचसी के डॉ. दिनेश कुमार व फार्मासिस्ट लालजी मिश्र के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की गई है। सीएमआे भी दोषी पाए जाते हैं तो उनके विरुद्ध कार्रवाई के लिए लिखा जाएगा।ड्ढr उन्होंने सीएमआे को मरीजों की सूची के साथ घर-घर सत्यापन करने के निर्देश दिए हैं। यह भी देखा जा रहा है कि कैम्प की अनुमति के लिए जरूरी कार्रवाईयाँ की गईं अथवा नहीं। उन्होंने कहा कि यदि 24 घंटे में संस्था के लोग मरीजों की सूची उपलब्ध नहीं कराते तो उनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फँस रहे हैं सीएमआे, संस्था और सीएचसी के डॉक्टर!