DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शादी कर लौटी बेबी, श्वसुर खा रहे जेल की हवा

आखिर वही हुआ जिस बात का पुलिस को शक था। गर्दनीबाग थाना नं. 3 से पांच दिन पहले पड़ोसी मुकेश के संग फरार युवती बेबी (काल्पनिक नाम) मंगलवार की शाम शादी रचाकर थाने लौट गई। चौंकाने वाली बात यह है कि रविवार को थाने में बेबी के पिता प्रदीप कुमार ने बिटिया के अपहरण का मामला दर्ज कर दिया था।ड्ढr ड्ढr नतीजतन आरोपी मुकेश के पिता बासुदेव को पुलिस ने उसी दिन गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे कर दिया। थानाध्यक्ष शिवजी प्रसाद ने बताया कि बेबी अभी नाबालिग है और आरोपी मुकेश को भी गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। जानकारी के अनुसार दिल्ली से मुकेश के साथ शादी रचाकर पहले वह कोर्ट में बयान दर्ज कराने पहुंची पर वहां बिना पुलिस की मौजूदगी तथा अनुमति नहीं मिलने से उसका बयान वहां दर्ज नहीं हो पाया। उसके बाद लाचारी में वह थाने का शरण ली। हालांकि पकड़े जाने के डर से मुकेश बेबी के साथ थाना नहीं पहुंचा। गौरतलब है कि पहली फरवरी को रोड नं. 3 में रहने वाले मुकेश ने बेबी के साथ शादी करने की नीयत से उसके संग फरार हुआ था। पुलिस के सामने युवती ने स्वीकार किया है कि वह अपनी इच्छा से ही मुकेश के साथ शादी करने गई थी। पर मामला यहां आकर अटकता दिखाई दे रहा है कि बेबी की उम्र 18 साल से कम है। इस आरोप में ही मुकेश को पुलिस ने दबोचने का मन बना लिया है। ड्ढr स्वास्थ्य शिविरों में 3लाख से अधिक पशुआें का उपचारड्ढr पटना(हि.ब्यू.)। 15 से 30 जनवरी तक राज्य भर में चले पशु स्वास्थ्य रक्षा पखवारा के दौरान नौ हजार से अधिक स्वास्थ्य शिविरों में 3लाख से अधिक पशुआें का उपचार किया गया। यह जानकारी उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यहां मंगलवार को दी। उन्होंने बताया कि लीवर फ्लू से बचाव के लिए आठ लाख से अधिक पशुआें को आक्सीक्लोनाइज्ड दवा की खुराक दी गई। पशुपालकों को बताया गया कि पशुआें को किस तरह संतुलित आहार दें। शिविर में शामिल हुए किसान पशुआें को होनेवाली बीमारियों की पहचान एवं प्रारंभिक निदान कर सकते हैं।उन्होंने कहा विशेष अभियान समाप्त हो जाने के बाद भी टीकाकरण अभियान जारी है। विभाग के डाक्टर और कर्मचारी हरेक दरवाजे पर पहुंचकर पशुआें का टीकाकरण कर रहे हैं। श्री मोदी ने बताया कि राज्य के 624 पशु अस्पतालों में 17 प्रकार की दवाएं मुफ्त में उपलब्ध हैं। डाक्टरों को कहा गया है कि वे मुफ्त दवाआें की सूची अस्पताल के बाहर लगा दें। उन्होंने बताया कि अस्पतालों के डाक्टरों की मौजूदगी सुनिश्चित करने के लिए नई व्यवस्था की जा रही है। प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी अब डाक्टरों की गतिविधियों पर भी नजर रखेंगे। भ्रमणशील पशु चिकित्सकों को हिदायत दी गई है कि वे ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण कर पशुआें के स्वास्थ्य की देख रेख करें। उन्होंने बताया कि राज्य में 50 नए कृत्रिम गर्भाधान केंद्र की स्थापना की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शादी कर लौटी बेबी, श्वसुर खा रहे जेल की हवा