अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुंदेलखंड में सूखे की स्थिति गंभीर : केंद्र

सूखा प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति का जायजा लेने के लिए गठित केंद्रीय अध्ययन दल ने मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र के चार जिलांे में सूखे की स्थिति को चिंताजनक करार दिया है। राष्ट्रीय वर्षा विहीन क्षेत्र कार्यालय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जे.एस. सामरा के नेतृत्व वाले नौ सदस्यीय अध्ययन दल ने मंगलवार को राय के सूखा प्रभावित टीकमगढ. छतरपुर दमोह और पन्ना जिलों का दौरा पूरा कर लिया। श्री सामरा ने मंगलवार शाम पत्रकारों को बताया कि बुंदेलखंड क्षेत्र में सूखे की स्थिति गंभीर है। इस संबंध में विस्तृत रिपोर्ट शीघ्र ही केंद्र सरकार को दी जाएगी। इससे पूर्व अध्ययन दल ने कल जिले के पवई जनपद क्षेत्र के तीन गांवों का दौरा कर फसलों के नुकसान और पानी की उपलब्धता आदि के संबंध में ग्रामीणों से जानकारी ली। छिर्रहा करही और विरसिंहपुर के ग्रामीणों ने अध्ययन दल को बताया कि लगातार दो वर्ष से बारिश नहीं होने से कुंए और तालाब सूख चुके हैं। पानी की कमी के कारण रबी फसलों की बुवाई पर काफी असर पड़ा है। सूखे के कारण पैदा होने वाली आर्थिक कठिनाइयों के चलते बड़ी संख्या में ग्रामीण शहरों की आेर पलायन कर गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बुंदेलखंड में सूखे की स्थिति गंभीर : केंद्र