DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेयर बाजार लुढ़के, सेंसेक्स 544 अंक टूटा

विदेशी शेयर बाजारों से भारी गिरावट की खबरों के बीच मुनाफावसूली चलने से देश के शेयर बाजारों में पिछले तीन दिन से चली आ रही तेजी को बुधवार को ब्रेक लगा। बंबई शेयर बाजार (बीएसई) सेंसेक्स 544 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) निफ्टी ने 161 अंक का गोता लगाया। कारोबार की शुरुआत से ही बाजार पूरी तरह मंदी की गिरफ्त में था। विदेशी शेयर बाजारों के मंदे और पिछले दिनों आए आईपीआे को निवेशकों का समर्थन नहीं मिलने से बाजार में निराशा का माहौल रहा। एम्मार एमजीएफ के बुधवार को बंद होने वाले इश्यू को अभिदान की तुलना में बमुश्किल एक प्रतिशत अधिक आवेदन आए हैं। वहीं दूसरी तरफ वोकहार्ट हॉस्पिटल के आईपीआे को समर्थन नहीं मिलने से इसके बंद होने की तिथि को दो दिन बढ़ाना पड़ा। एशियाई शेयर बाजारों में जापान का निक्केइ, अमेरिका की मंदी की चिंता में 4.7 प्रतिशत अर्थात 646.26 अंक टूट कर 130अंक रह गया। हांगकांग का हेंगसेंग 133अर्थात 6.15 प्रतिशत के नुकसान के दो सप्ताह के न्यूनतम स्तर 2346अंक पर बंद हुआ। ब्रिटेन के शेयर बाजार भी स्थिरता में खुले हैं। गत दिवस अमेरिका में बिकवाली के दवाब से डाउ जोंस 252 अंक अर्थात 1.प्रतिशत घट कर 12383.16 अंक पर बंद हुआ। एस एंड पी 500 में 1352.31 अंक पर 2.06 प्रतिशत का नुकसान हुआ। नास्डाक 41.1अंक अर्थात 1.73 प्रतिशत के नुकसान से 2346.66 अंक रहा था। बीएसइ में कारोबार की शुरुआत में सेंसेक्स मंगलवार से करीब 425 अंक नीचे 18247.03 अंक पर खुला और इसके बाद यह निरंतर बिकवाली के दवाब मंे दिखा। सत्र के दौरान यह शुरुआत की तुलना में करीब 27 अंक बढ़ कर ऊंचे में 18274.15 अंक जाने के बाद लुढ़कता हुआ 1701 अंक तक गिरा। समाप्ति पर इसके मुकाबले हल्के सुधार के बावजूद सेंसेक्स 543.5अंक अर्थात 2.प्रतिशत के नुकसान से 1811अंक पर बंद हुआ। एनएसई का निफ्टी 161.35 अर्थात 2.प्रतिशत के नुकसान से 5322.55 अंक रह गया। बीएसई में सत्र के दौरान मंझोली और लघु कंपनियों के शेयरों मे खासा दवाब देखा गया जिससे इनके सूचकांक क्रमश: और 57.20 अंक नीचे आए। धातु कंपनियों के इस्पात के दाम बढ़ाए जाने पर सरकार की नाराजगी को देखते हुए इनके शेयरों में खासी बिकवाली देखी गई जिससे धातु सूचकांक 655.64 अंक नीचे आया। ऑटोमोबाइल, बैंकेक्स, इंजीनियरिंग, आईटी, ऑयल एंड गैस और रियलिटी कंपनियों के सूचकांक भी गिरावट के साथ बंद हुए। मंझोली और लघु कंपनियों के शेयरों में बिकवाली के दवाब से बीएसई का रुख नकारात्मक रहा। कुल 2817 कंपनियों के शेयरों में कामकाज हुआ और इसमें आधे से अधिक 1473 अर्थात 52.2प्रतिशत के शेयर नीचे आए। 1304 अर्थात 46.2प्रतिशत कंपनियों के शेयर ऊंचे रहे जबकि 40 में कोई घट बढ़ नहीं हुई। सेंसेक्स की 30 कंपनियों में मात्र दो के शेयर बढ़े जबकि 28 में घाटा था। अमेरिकी अर्थव्यवस्था की मंदी को देखते हुए सूचना प्रौद्योगिकी की कंपनियों के शेयर में खासी गिरावट देखी गई। सेंसेक्स से जुड़ी इस क्षेत्र की चौथी बड़ी कंपनी सत्यम कंप्यूटर का शेयर 6.74 अर्थात 2पये गिर कर 408.65 रुपये का रह गया। नुकसान वाले पहले चार शेयर आईटी कंपनी के ही थे। इनमें इंफोसिस टेक्नोलोजिज सवा छह प्रतिशत अर्थात 100.65 के नुकसान 1510.60 रुपये रह गया। इस क्षेत्र की अग्रणी टीसीएस के शेयर में बुधवार को लगातार दूसरे दिन खासी गिरावट देखी गई। कंपनी का शेयर 5.15 प्रतिशत अर्थात 48.0 रुपये के नुकसान से 00.55 रुपये पर बंद हुआ। विप्रो में 425 रुपये पर 20 रुपये अर्थात 6.45 प्रतिशत का घाटा हुआ। सेंसेक्स से जुड़ी घाटे वाली कंपनियों में हिंडाल्को, मारूति सुजूकि, आेएनजीसी, एचडीएफसी, भारती एयरटेल, आईसीआईसीआई बैंक, बजाज ऑटो, आईटीसी, भेल, ग्रासिम इंडस्ट्रीज, टाटा मोटर्स, एनटीपीसी, रिलायंस, डीएलएफ., टाटा स्टील तथा महिन्द्रा एंड महिन्द्रा शमिल हैं। फायदे वाले शेयरों में रिलायंस इनर्जी 30.05 रुपये अर्थात 1.48 प्रतिशत के फायदे से 2056.35 रुपये और रिलायंस कम्युनिकेशन 0.68 प्रतिशत अर्थात 4.60 रुपये के फायदे से 681.60 रुपये पर बंद हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शेयर बाजार लुढ़के, सेंसेक्स 544 अंक टूटा