DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भावनाएं आहत करवाने वाले

ुछ भिखारी ऐसे होते हैं, जो अपंग होते हैं। कुछ भिखारी ऐसे भी होते हैं, जो अपंग नहीं होते, लेकिन अपंग होने का अभिनय करते हैं। इसमें भी खास कुछ बुरा नहीं है, अगर अपंग होने के अभिनय के चलते किसी की रोजी-रोटी चलती है, तो क्या बुरा है। वे सिर्फ रोजी-रोटी ही तो कमा रहे हैं, फिल्म या टीवी के अभिनेताआें की तरह करोड़ों तो नहीं कमा रहे हैं। लेकिन इन नाटकीय भिखमंगों में और एक जमात है, जो ज्यादा खतरनाक है।ये ऐसे भिखमंगे हैं, जिनके शरीर में किसी किस्म की चोट होने का वे नाटक नहीं करते, उनका नाटक यह होता है कि उनकी भावनाएं आहत हुई हैं। ये लोग आंख गड़ा-गड़ाकर देखते हैं कि ऐसा क्या है, जिससे उनकी भावनाएं आहत हो सकती हैं, ऐसी चीजों में उनकी कोई रुचि नहीं होती, जिनसे अच्छी भावनाएं उठें। वे सानिया मिर्जा के खेल से खुश नहीं होते, वे देखते हैं कि ऐसा क्या है, जिससे उनकी भावनाएं आहत हों। मकबूल फिदा हुसैन के चित्रों की खूबियां उन्हें आकर्षित नहीं करतीं, उन्हें यह खोजने में आनंद आता है कि हुसैन के चित्रों से कहां आहत हुआ जा सकता है। जैसे अपंगता का नाटक करने वाला भिखारी अपने शरीर के स्वस्थ अंगों की बजाए अपनी छद्म अपंगता पर ध्यान केन्द्रित करवाना चाहता है, कुछ वैसा ही इनका भी अंदाज होता है। भावनाएं आहत करवाना इस देश में बड़ा कारोबार है। अगर कोई अर्थशास्त्री खोज कर के बताए तो पता लग सकता है कि सालाना इससे इतने अरब डॉलर का लेन-देन हुआ। अगर राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना मुंबई में उत्तर भारतीयों की पिटाई करती है, तो इसमें काफी बड़ा नफा नुकसान हो जाता है। इन दिनों टीवी के युग में यह व्यापार और फल-फूल रहा है, क्योंकि इससे टीवी को सनसनीखेज खबरें मिल जाती हैं और भावनाएं आहत करवाने वालों को मुफ्त प्रचार। अगर टीवी कैमरे न होते, तो शायद खोमचे वाले टैक्सीवाले कम पिटते। पहले ऐसा नहीं था। जब आगा हश्र कश्मीरी ने ‘सलीम अनारकली’ ड्रामा लिखा, तो किसी की भावनाएं आहत नहीं हुईं, फिल्मिस्तान वालों ने ‘अनारकली’ फिल्म बनाई तब भी नहीं हुई, मुगल-ए-आजम बनी तब भी नहीं हुई। आशुतोष गोवारीकर जब ‘जोधा अकबर’ बना चुके तब भावनाएं आहत करवाने वालों ने कहा कि यह वक्त है भावनाएं आहत करवाने का। अब अगर आपको भावनाएं आहत होने का विलाप करते लोग दिखें तो उन्हें सम्मान से देखिए, वे भी इस अभिनय के बड़े कारोबारी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भावनाएं आहत करवाने वाले