अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दक्षिण को हरा पूर्व होड़ में बरकरार

पूर्व क्षेत्र को दलीप ट्रॉफी लीग मैच में दक्षिण क्षेत्र को हराने के लिए चौथे और अंतिम दिन लंच के बाद केवल दो गेंदों की जरूरत पड़ी। रणदेव बोस और तुषार साहा की अच्छी गेंदबाजी से पूर्व क्षेत्र ने बुधवार को 68 रन से जीत दर्ज की। जीत के लिए 273 रन के लक्ष्य का पीछा कर रहा दक्षिण क्षेत्र बोस और साहा की गेंदबाजी के सामने नतमस्तक होकर 204 के स्कोर पर ही सिमट गया। साहा ने 56 रन देकर तीन विकेट झटके तो बोस को इतने ही विकेट 67 रन देकर मिले। उनके अलावा पलाश योति दास ने भी दो विकेट लिए। दक्षिण क्षेत्र की तरफ से कप्तान एस. बद्रीनाथ ने सर्वाधिक 57 रनों की पारी खेली जबकि डी रवि तेजा ने 54 रन बनाए। लेकिन अन्य बल्लेबाजों की नाकामी के कारण दक्षिण क्षेत्र को हार का सामना करना पड़ा। पूर्व क्षेत्र अपनी दूसरी पारी में मंगलवार को महज 163 रन ही बना सका था। लेकिन पहली पारी के आधार पर मिली 10रनों की बढ़त के सहारे वह 273 रन की चुनौती रखने में कामयाब रहा था। पूर्व ने अपनी पहली पारी में 313 जबकि दक्षिण ने 204 रन बनाए थे। इससे पहले वानखेड़े स्टेडियम पर दक्षिण क्षेत्र ने कल के तीन विकेट पर 113 रन के स्कोर से आगे अपनी पारी आगे बढ़ाई। कुछ समय के लिए ऐसा लगा कि बद्रीनाथ और प्रसाद रेड्डी की जोड़ी खतरनाक साबित हो सकती है। बद्रीनाथ और प्रसाद ने चौथे विकेट के लिए 30 रन की साझेदारी निभाई ही थी कि बोस के एक आेवर ने मैच की तस्वीर बदल दी। बोस ने एक ही आेवर में बद्रीनाथ और आर. अश्विन (0) को पैवेलियन भेजकर अपनी टीम की उम्मीदें जिंदा कर दी। दक्षिण क्षेत्र अपने कप्तान को गंवाने के बाद कभी भी संभल नहीं सका। हालांकि प्रसाद ने 3रन बनाकर कुछ देर तक संघर्ष किया। दक्षिण क्षेत्र ने अपने अंतिम चार विकेट तो महज 20 रन के अंतराल पर गंवा दिए। उसकी पारी समेटने में पलाश का भी योगदान रहा जिन्होंने केवल चार गेंदों पर दो विकेट झटक लिए। दक्षिण क्षेत्र को आज जीत के लिए 160 रन चाहिए थे। तीन टीमों के ग्रुप में दक्षिण की सारी उम्मीदें बद्रीनाथ से थीं जो कल 42 रन पर नॉट आउट थे। लेकिन आज वह 12वें आेवर में चलते बने। दक्षिण के कप्तान बोस की गेंद को ड्राइव करने के प्रयास में स्लिप में शिव सुंदर दास को कैच थमा बैठे। बद्रीनाथ ने 183 मिनट क्रीज पर गुजारे और सात चौकों की मदद से57 रन बनाए। बोस ने बद्रीनाथ के तमिलनाडु के साथी आर. अश्विन को इसी स्कोर पर आउट कर करारा झटका दिया। उस समय दक्षिण का स्कोर143 रन था। बोस ने स्वप्निल असनोडकर को आउट कर दक्षिण का स्कोर छह विकेट पर 171 रन कर दिया। पलाश दास ने अंतिम दो बल्लेबाजों एनसी अयप्पा और प्रज्ञान आेझा को तीन गेंदों के अंतराल में आउट कर लंच तक दक्षिण क्षेत्र को पराजय की कगार पर धकेल दिया। पुछल्ले बल्लेबाज संघर्ष करने में नाकाम रहे। पूर्व को राजकोट में 11 से 14 फरवरी तक खेले जाने वाले अंतिम लीग मैच में उत्तर से भिड़ना होगा। इस मैच का विजेता मुंबई मे 1से 23 फरवरी तक होने वाले फाइनल में खेलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दक्षिण को हरा पूर्व होड़ में बरकरार