DA Image
26 फरवरी, 2020|10:20|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ई-गवर्नेस से जुड़ने वालानालंदा पहला जिलां

बिहार के बदले माहौल में सरकारी कार्यालयों की रूपरेखा भी बदलने लगी है। कार्यो में निष्पक्षता के साथ पारदर्शिता लाने के दृष्टिकोण से सभी कार्यालयों को ऑनलाइन करने की बिहार सरकार की सोच के तहत जिले के इतिहास में एक नया अध्याय जुड़ गया है। सूबे का पहला जिला नालंदा बन गया है जहां के समाहरणालय को इ-गवर्नेस के तहत ऑनलाइन कर दिया गया है। अब पांच मिनट में यहां के लोगों को जाति, आय, निवास समेत अन्य प्रमाणपत्र मिल सकेंगे। वीडियो कांफ्रेंसिंग की शुरूआत बुधवार को की गयी। इसी के साथ ‘बिस्वान’ (बिहार स्टेट वाइड एरिया नेटवर्किंग) से जुड़ने वाला सूबे का पहला जिला बनने का सौभाग्य नालंदा को प्राप्त हुआ।ड्ढr ड्ढr ‘बिस्वान’ के तहत जिलास्तर पर डीएचक्यू (डिस्ट्रीक्ट हेडक्वार्टर), अनुमंडलस्तर पर एसडीएचक्यू व प्रखंडस्तर पर बीएचक्यू स्थापित किए जाएंगे। अब यहां के जिलाधिकारी मुख्यमंत्री, राज्यपाल व सचिवालय से सीधे रूप से जुड़ सकेंगे। ‘बिस्वान’ के तहत पूरे सूबे के प्रखंडस्तरीय कार्यालयों तक को जोड़ा जाएगा। वहीं प्रखंडों से गांवों को जोड़ने के लिए प्रत्येक पांच गांवों पर एक वीडियो कांफ्रेंसिंग सेंटर खोला जाएगा। तकनीकी रूप से इस केंद्र को सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) कहा जाएगा। गांवों में बैठे हुए लोग भी सूबे के किसी प्रखंड अथवा जिलास्तरीय कार्यालयों से प्रमाणपत्र ऑनलाइन कुछ मिनटों में प्राप्त कर सकेंगे। नालंदा के कई कार्यालयों को ऑनलाइन कर दिया गया है। जिलाधिकारी आनंद किशोर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग का शुभारंभ करते हुए बताया कि इस सिस्टम से सभी कार्यालयों को जोड़ दिए जाने के बाद भ्रष्टाचार पर बहुत हद तक रोक लगाने में सहायता मिलेगी।ं

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: ई-गवर्नेस से जुड़ने वालानालंदा पहला जिलां