अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धूम्रपान दृश्यों पर प्रतिबंध के मामले में विभाजित फैसला

दिल्ली उच्च न्यायालय की दो सदस्यीय पीठ ने फिल्मों और विज्ञापनों में धूम्रपान के दृश्यों पर प्रतिबन्ध लगाने संबंधी एक याचिका पर गुरुवार को विभाजित निर्णय दिया। मशहूर फिल्मकार महेश भट्ट ने विज्ञापन में धूम्रपान संबंधी प्रतिबंध, उत्पादन एवं आपूर्ति कानून 2003 को इस याचिका में चुनौती दी थी जिसमें फिल्मों में धूम्रपान के दृश्यों पर प्रतिबन्ध लगाया गया है। इस याचिका पर न्यायाधीशों का फैसला विभाजित रहा। न्यायाधीश मुकुल मुद्गल का कहना है कि अगर सरकार लोगों को धूम्रपान की अनुमति देती है तो ऐसे दृश्यों को दिखाने में कोई नुकसान नहीं है। उधर न्यायाधीश संजीव खन्ना ने अपनी यह विरोधाभासी प्रतिक्रिया की कि फिल्म अभिनेता जनता के आदर्श हैं और उन्हें धूम्रपान करते दिखाए जाने से युवा वर्ग उनकी नकल करेगा जिससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा होंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: धूम्रपान दृश्यों पर प्रतिबंध पर विभाजित फैसला