अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली क्षेत्र में पैसे की कमी नहीं

बिजली मंत्री सुशील कुमार शिंदे का मानना है कि देश के बिजली क्षेत्र का पास पर्याप्त धन है और वह अपनी परियोजनाओं का विकास अपने बूते आराम से कर सकता है। कंपनियों से ब्याज के रूप में भी पर्याप्त राशि आ जाती है और इसके लिए चिंता करने की कोई बातनहीं है। श्री शिंदे ने वित्त वर्ष 2008-0में बजटीय आवंटन वित्त वर्ष (2007-08) से 7.46 प्रतिशत कम रहने से संबंधित सवाल के जबाव में यह उत्तर दिया। उल्लेखनीय है कि बिजली क्षेत्र के लिए वित्त वर्ष 2008-0में बजटीय आवंटन वित्त वर्ष (2007-08) से 7.46 प्रतिशत कम रहने की उम्मीद जताई जा रही है। योजना आयोग के सूत्रों के अनुसार, वित्त वर्ष 2007-08 में बिजली क्षेत्र के लिए जहां 5483 करोड़ रुपये का बजटीय आवंटन हुआ था, वहीं इस वर्ष अर्थात 2008-0में केवल 5074 करोड़ रुपये का ही बजटीय आवंटन होगा जोकि गत वर्ष से 7.46 प्रतिशत कम है। उल्लेखनीय है कि यह केवल एक अनुमान है जिसमें थोड़े बहुत का अंतर हो सकता है। जानकारों का मानना है कि वर्ष 2008 में देश के नौ राज्यों में चुनाव होने हैं जबकि 200में आम चुनाव होने हैं इसलिए सरकार का जोर राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजना, पिछड़े क्षेत्रों, अल्पसंख्यक तथा स्वास्थ्य योजनाओं जैसे वोट से जुड़े क्षेत्रों पर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिजली क्षेत्र में पैसे की कमी नहीं