DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मंदिर में महिला प्रवेश विवाद पर केरल सरकार का फार्मूला

सबरीमाला मंदिर में महिलाआें के प्रवेश को लेकर जारी विवाद को समाप्त करने के उद्देश्य से केरल की एलडीएफ सरकार ने एक महत्वपूर्ण पहल की है। सरकार ने महिलाआें के लिए अलग से सबरीमाला स्थित अयप्पा मंदिर की तीर्थयात्रा का मौसम निर्धारित करने का प्रस्ताव दिया है। सरकार ने इस मंदिर में 10 से 50 साल तक की महिलाआें के प्रवेश पर परम्परागत पाबंदी से जुड़े एक मामले के संदर्भ में बुधवार को अदालत को एक हलफनामा भेजा। अपने हलफनामे में सरकार ने महिलाआें के लिए इस मंदिर की तीर्थयात्रा का अलग से मौसम निर्धारित करने का प्रस्ताव देने के साथ ही यह भी कहा कि इसके अध्ययन के लिए अदालत विद्वानों का एक पैनल बनावे। हलफनामे में कहा गया है कि सरकार का नजरिया है कि किसी भी तरह का लैंगिक भेदभाव नहींे होना चाहिए। हालांकि सरकार महिलाआें व पुरुषों के लिए समान आधार बनाए रखने की तरफदार है, इसके बावजूद व्यावहारिक कठिनाइयों के मद्देनजर महिलाआें के लिए सबरीमाला के अयप्पा मंदिर में महिलाआें के जाने के लिए अलग से मौसम निर्धारित करना आवश्यक है। तीर्थयात्रा के मौजूदा पारम्परिक मौसम में, नवंबर से जनवरी के बीच लाखों श्रद्धालु इस मंदिर में पहुंचते हैं। ऐसे में महिलाआें को सुविधा मुहैया कराने में दिक्कत आती है। रुढ़िवादी समूहों द्वारा सभी आयु की महिलाआें के इस मंदिर में प्रवेश केतीव्र विरोध के मद्देनजर हलफनामे में कहा गया है कि सरकार का कोई ‘अंतिम शब्द’ नहीं है। रीति-रिवाजों को भी ध्यान में रखकर विचार होना चाहिए। इसके लिए अदालत विद्वानों का एक पैनल बना सकता है। सरकार अदालत के फैसले के साथ रहेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मंदिर में महिला प्रवेश विवाद पर केरल फार्मूला