अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार के लिए कलाम ने दिया सात सूत्री फामरूला

पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ने मिशन बनाकर बिहार को पांच वर्ष में ज्ञान के नेतृत्वकारी केन्द्र के रूप में विकसित करने का आह्वान किया है। उन्होंने इसके लिए सात सूत्री फामरूला भी दिया। उन्होंने कहा कि यहां ज्ञान के प्रकाश को जलाएं, विद्यालयों की क्षमता बढ़ाएं, समयबद्ध योजना बनाएं, बेहतरीन शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना करें, इनको तकनीकी रूप से विकसित करें, ज्ञान उद्योग की स्थापना करें और बिहार से संबंधित ज्ञान के लिए वेब पोर्टल विकसित करें।ड्ढr ड्ढr श्री कलाम शुक्रवार को मानव संसाधन विकास विभाग के कार्यक्रम में ‘बिहार ज्ञान के नेतृत्वकारी केन्द्र के रूप में’ विषय पर व्याख्यान दे रहे थे। श्री कलाम ने कहा कि बिहार में पहली कक्षा में 35 लाख बच्चों का नामांकन होता है लेकिन कक्षा पांच में पहुंचते-पहुंचते 16 लाख बच्चे विद्यालय छोड़ देते हैं। इसका कारण गरीबी, विद्यालयों में माहौल का नहीं होना और मूल्य आधारित शिक्षा का अभाव है। वे चाहते हैं कि पहली कक्षा में नामांकन लेने वाले सभी बच्चे दसवीं कक्षा तक पहुंचें। इनमें से दस फीसदी बच्चों को रोजगारपरक शिक्षा से जोड़ा जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिहार के लिए कलाम ने दिया सात सूत्री फामरूला