DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज ठाकरे ने फिर उगला जहर

महाराष्ट्र नव निर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने शनिवार को आयोजित प्रेस कांफ्रेस में फिर से मराठा राग छेड़ते हुए कहा कि मैंने उत्तर भारतीय नहीं कहा। मेरी नाराजगी यूपी व बिहार के लोगों से है। उन्होंने कहा कि मेरे बयान को मीडिया ने तोड़ा मरोड़ा। उन्होंने कहा कि मैंने छठ पूजा का भी विरोध नहीं किया, बल्कि छठ पर होने वाली राजनीति के विरोधी हैं। उन्होंने यह भी कहा कि पूरा महाराष्ट्र उनके साथ है और वह अपने बयान पर कायम हैं। उन्होंने कहा कि यूपी-बिहार के लोग तो यहां रह ही रहे हैं और साथ ही बड़े पैमाने पर अपने लोगों को यहां लाते रहते हैं, जिससे मराठी लोगों के लिए रोजगार के मौकों में कमी होती है और मराठा संस्कृति को नुकसान पहुंचता है। इससे पहले महाराष्ट्र टाईम्स में आज लिखे अपने लेख में उन्होंने कहा है कि चाहे पूरा विश्व ही उनके खिलाफ खड़ा क्यों न हो जाए, लेकिन वे मराठा हित की बात करना नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि मराठा संस्कृति को बचाने के लिए वे और उनकी पार्टी लड़ती रहेगी और यूपी और बिहारी गुंडा संस्कृति पर जीत हासिल करेंगे। उन्होंने कहा कि यूपी और बिहार के नेता दिल्ली के जरिए महाराष्ट्र की सरकार पर दबाव डाल रहे हैं, जोकी मराठा लोगों का अपमान है। उन्होंने कहा कि अगर अमिताभ अपने प्रदेश की बात करते हैं तो ठीक है, अगर गांगुली के नाम पर पूरा बंगाल उनके समर्थन में खड़ा हो जाता है तो ठीक है, लेकिन जब मैं मराठियों की बात करता हूं तो प्रांतवादी कहलाता हूं। उन्होंने एक बार फिर से मराठियों का आह्वान करते हुए कहा कि अगर मैं मराठियों की सही भावना को सामने रख रहा हूं तो मराठा लोग चुप क्यों बैठे हैं, वे आकर हमारा साथ क्यों नहीं देते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राज ठाकरे ने फिर उगला जहर