DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रकाश बने जीत के हीरो

वह खिलाड़ी जो पिछले तीन दिन से विवाद में था आज हीरो बन कर छा गया। रात की पार्टी की अनुशासनहीनता, फिट अनफिट की हां ना और शीर्ष भारतीय होने के बावजूद पहले दिन एकल में न खिलाए जाने के सब मसले सफलता में दब गए। प्रकाश अमृतराज ने रविवार को पांचवां मैच उलट एकल जीत कर भारत को डेविस कप एशिया ओसियाना ग्रुप एक मुकाबले में 3-2 से आगे कर अगले दौर में पहुंचा दिया। अब हमें अप्रैल में जापान के विरुद्ध अपने ही घर में अगला मुकाबला खेलना है। दो दिन तक शानदार जीत दिलाने वाले रोहन बोपन्ना ने सुबह शीर्ष उजबेकी डेनिस इस्तोमिन से जीता जिताया मैच पांच सेट में 6-4, 6-4, 4-6, 7-6 (7-1), 8-6 से गंवाया तो सारा दारोमदार प्रकाश पर आन पड़ा। विश्व में 265वीं वरीयता के शीर्ष भारतीय ने दूसरे नम्बर के उजबेकी फारुक दुस्तोव को 6-3, 3-6, 6-3, 6-2 से हराकर भारत को मुकाबला जितवा दिया। बिग सर्वर रोहन बोपन्ना यदि अनफोर्स एरर कम करें तो वे दुनिया के किसी भी खिलाड़ी को हरा सकते हैं। पहले दो दिन उन्होंने ऐसा किया और दो शानदार जीत दर्ज कीं लेकिन रविवार को बोपन्ना अपने पुराने रूप में लौट आए। उन्होंने तीसरे दिन लगातार तीसरा मैच खेलते हुए शुरुआत तो सधी की थी और दो सेट जीतने के बाद तीसरे में 4-2 की बढ़त भी बना ली थी। लेकिन जब जीत केवल दो गेम दूर थी, वे अनफोर्स एरर करने लगे और लगातार आत्मविश्वास खोते चले गए। यहीं से नम्बर एक उजबेकी खिलाड़ी डेनिस इस्तोमिन ने अपने अंतरराष्ट्रीय अनुभव और विश्व में अपनी 185वीं वरीयता का लाभ उठा कर पासा पलट दिया। बोपन्ना ने एस एवं विनर्स के समीकरणों से पहले दोनों सेट नौवें गेमों में सर्विस ब्रेक से जीते। तीसरे सेट में बोपन्ना ने पहले ही गेम में सर्विस ब्रेक लगा बढ़त बना ली थी पर अब उनके रिटर्न बाहर जाने लगे। उन पर थोड़ी थकान भी दिखने लगी। चौथे गेम में दो ब्रेक अंक बचाने के बाद उन्होंने आठवें गेम में सर्विस गंवा दी। इस्तोमिन ने यहां वापसी शुरू की और दसवें गेम में एक और सर्विस ब्रेक लगा सेट जीत लिया। चौथे सेट में काफी संघर्ष हुआ। पहले गेम में इस्तोमिन की और दूसरे गेम में रोहन की सर्विस टूटीं, जबकि फैसला टाईब्रेकर में इस्तोमिन के पक्ष में गया। पांचवें गेम में 13वें गेम में सर्विस ब्रेक के साथ इस्तोमिन ने मैच जीता। क्ले कोर्ट के स्पेशलिस्ट उजबेकी घासीली सहत पर गिरते फिसलते संघर्ष करते रहे। पिछले दो दिन के खेल से सबक लेकर उन्होंने गेम को वैसे ही ढालने की कोशिश की और वाली लेने नेट पर आए। दुस्तोव ने भी अपने गेम में काफी परिवर्तन किए पर ग्रास कोर्ट उन्हें माफिक नहीं आया। पहले सेट में आठवें गेम में वे सर्विस गंवा बैठे। दूसरा सेट दुस्तोव ने पांचवें गेम में सर्विस गंवाने के बाद दो बार (छठे और आठवें गेम में) प्रकाश की सर्विस तोड़ हथिया लिया। प्रकाश ने सर्व एवं वाली का बहुत ही सधा खेल खेला और तीसरे सेट में दूसरे गेम में और चौथे सेट में पांचवें एवं सातवें गेमों में सर्विस ब्रेक लगाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रकाश बने जीत के हीरो