अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खामोश प्यार के लिए शब्दों की तलाश

खामोशी के लिए शब्दों की तलाश हो रही है। प्यार का भी खामोश इजहार हो रहा है। खामोशी से ही इनकार और इकरार चल रहा है। हां यह जरूर है कि इस खामोश प्यार में कहीं शेर-आे-शायरी का दौर चल रहा है तो कहीं अच्छे रुलोगन मांगे जा रहे हैं। इन शायरियों में चुप रहने या दिल का फसाना न कह पाने की कसक बताई जा रही है। जी हां यह है प्यार के इजहार की ऑन लाइन खामोशी। सीजन वेंलेंटाइन का है और जाहिर है बात प्यार के इजहार की ही होगी।ड्ढr ड्ढr लेकिन इंटरनेट पर चल रहे प्यार के इस खेल में एक गजब खामोशी है। खामोशी इस अर्थ में नहीं कि वहां वेंलेंटाइन से संबंधित चीजों की भरमार नहीं है, बल्कि प्यार भरे रुलोगनों में इस बार खामोशी खूब दिख रही है। इसके अलावा कई साइट्स ऐसे हैं जिसमें लोगों से शायराना अंदाज के जुमले मांगे गए हैं और बदले में उन्हें दिये जा रहे हैं गिफ्ट। अब प्यार के इजहार की इस ऑन लाइन खामोशी में लोगों ने दिल खोलकर खामोश ‘शब्द’ का इस्तेमाल कर अपनी बात कह डाली है। देखिए ऐसी ही कुछ इंटरनेट शायरी- आपकी मुस्कान हमारी कमजोरी, कुछ कह न पाना हमारी मजबूरी। खामोशी को जुबां देना क्या है जरूरी। एक सज्जन कहते हैं-जब खामोश आंखों से बात होती है, ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है। जरूरत है नहीं अल्फाज की, प्यार तो चीज है बस अहसास की। इस तरह के ढेरों वाक्य इंटरनेट के जरिये मनाए जा रहे वेंलेंटाइन डे के बहाने इन दिनों चल रहे हैं। इस इजहारे इश्क में खामोशी और जुबां न होने की बात इस मासूमियत से कही जा रही है कि माशूक को लगे उसने कहा तो कुछ नहीं बस अपना दिल रख दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खामोश प्यार के लिए शब्दों की तलाश