DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत नहीं तो, चीन शामिल होगा गैस परियोजना में

चीन ने ईरान पाकिस्तान भारत गैस पाइप लाइन परियोजना से भारत के अलग होने की स्थिति में इसमें शामिल होने की इच्छा व्यक्त की है। पाकिस्तानी अखबार डेली टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से खबर दी गई है कि चीन ने पाकिस्तान से कहा है कि यदि भारत इस परियोजना में शामिल नहीं होना चाहता है तो वह अतिरिक्त गैस आयात करने के लिए तैयार है। इस परियोजना को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच अभी भी कुछ बिन्दुआें पर गतिरोध बना हुआ है और भारत इस माह इस पर चर्चा करने को यह कहते हुए खारिज कर चुका है कि आगामी 18 फरवरी को पाकिस्तान में चुनाव होने के बाद वह वार्ता को आगे बढाएगा। सूत्रों का कहना है कि हालांकि पाकिस्तान और ईरान इस परियोजना को लेकर 24 फरवरी को एक समझौते पर हस्ताक्षर कर सकते हैं। यह ईरान की प्रस्तावित तिथि है और ईरान भी पाकिस्तान की निर्वाचित सरकार के साथ समझौता करना चाहता है। पाकिस्तान इस परियोजना के तहत ईरान से प्रति दिन 2.2 अरब घन फुट गैस आयात करना चाहता है और उसने कहा है कि यदि भारत इस परियोजना में शामिल नहीं होगा तब भी वह 1.05 अरब घन फुट अतिरिक्त गैस का उपयोग कर सकता है। खबरों में कहा गया है कि पाकिस्तान यदि उस गैस को चीन को निर्यात करता है तो उस पर ईरान को कोई आपत्ति नहीं होगी। सूत्रों ने कहा कि यदि चीन इस परियोजना में शामिल होता है तो पाइपलाइन गिलगित होकर गुजरेगी। पाकिस्तान चीन को ग्वादर बंदरगाह से जोड़ने के लिए रेलवे लाइन परियोजना पर भी काम कर रहा है। सूत्रों कहना है कि चीन यदि इस परियोजना में शामिल होता है तो उसके विशेषज्ञ पाइप लाइन के मार्ग को लेकर चर्चा के लिए पाकिस्तान की यात्रा करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारत नहीं तो, चीन शामिल होगा गैस परियोजना में