अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईटीआई को मिली सरकार की स्वीकृति

राज्य में औद्योगिक विकास को लिए सरकार द्वारा अनेक प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य के सामान्य वर्ग के युवक-युवतियों की आत्मनिर्भरता के लिए आईटीआई एक बेहतर ट्रेड है। इसको ध्यान में रखते हुए अंबेडकर ग्रुप ऑफ एजुकेशन, बोरिंग रोड, पटना द्वारा अपने बाईटीआई यूनिट तथागत एजुकेशनल मिशन की स्थापना का निर्णय लिया है। सरकार ने भी 300 विद्यार्थियों के प्रशिक्षण के लिए संस्थान खोलने की अनुमति प्रदान कर दी है। अंबेडकर ग्रुप ऑफ एजुकेशन द्वरा राज्य में विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों का संचालन किया जा रहा है। सरकार की अनुमति मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए संस्थान के सहायक निदेशक एमएन सहाय, प्रधानाचार्य एके श्रीवास्तव, शशि कुमारी व प्रबंध निदेशक कौशल कुमार ने कहा कि प्रशिक्षणार्थियों के लिए छात्रावास व प्लेसमेंट की पूरी सुविधा दी जाती है। संस्थान द्वारा इलेक््रिटकल, फीटर, डीजल मैकेनिक व ऑटोमोबाईल में प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।ड्ढr ड्ढr इंडियन एसोसिएशन ऑफ वीमेंस स्टडीज का सम्मेलनड्ढr पटना (सं.सू)। सी डब्ल्यू डीएस सेन्टर फोर वीमेंस डेवलपमेंट स्टडीज, न्यू दिल्ली के तत्वावधान में इंडियन एसोसिएशन ऑफ वीमेंस स्टडीज का 12वां नेशनल सम्मेलन लखनऊ में 7 से 10 फरवरी तक आयोजित हुआ। सम्मेलन में पटना विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के अन्तर्गत चल रहे स्वपोषित पीजी डिप्लोमा ऑफ वीमेंस स्टडीज के 18 छात्र-छात्राआें प्रो. पद्मलता के नेतृत्व में भाग लिया। सम्मेलन की व्यवस्था आई.ए. डब्ल्यू. एस. द्वारा की गई थी। सभी छात्रों को सर्टिफिकेट भी मिला।ड्ढr ड्ढr पटना को सुंदर बनाने को ‘लिटिल ट्वाय हेलीकॉप्टर’ से होगा सर्वेड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। राजधानी पटना को बेहतर बनाने के लिए ‘लिटिल ट्वाय हेलीकॉप्टर’ से पटना का एरियल सर्वे होगा। इस सर्वे के आधार पर सुन्दर पटना की परिकल्पना को साकार करने की दिशा में पहल होगी। यह पटना को महानगर का रूप देने की पहल होगी। हालांकि इसके लिए केन्द्रीय उड्डयन मंत्रालय से अंतिम स्वीकृति मिलनी अभी बाकी है। राज्य सरकार ने पटना को बेहतर बनाने और पटना से बोधगया के बीच सुपर एक्सप्रेस हाइवे बनाने के लिए जापान बैंक ऑफ इंटरनेशनल कोऑपरेशन (जेबीआइसी) से विशेष सहयोग मांगा है। विश्व बैंक, एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी), डीएफआइडी और जापान बैंक ऑफ इंटरनेशनल कोऑॅपरेशन (जेबीआइसी) के ‘ज्वायंट इंटरनेशनल डेवलपमेंट पार्टनर्स ग्रुप’ के साथ बैठक के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि राजधानी पटना के साथ सबसे बड़ी परेशानी यह है कि यहां जगह की बेहद कमी है। हर एजेंसी, उद्यमी और निवेशकर्ता को पटना के बीच में ही स्थान चाहिए। ऐसा संभव नहीं है। पटना को नए ढंग से विकसित करने की भी चुनौती है। इसीलिए देश की जानी मानी आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्ट एजेंसी ‘करण ग्रोवर एंड कंपनी’ से राज्य सरकार सहयोग ले रही है। पिछले दिनों उसने मुख्यमंत्री के समक्ष पावर प्रजेन्टेशन भी दिया था। राजधानी में नए स्थलों की खोज के साथ-साथ विधानमंडल पर भी चर्चा हुई थी। या तो उसके लिए नया भवन बने या फिर नया सवरूप दिया जाए। इसी अभियान के क्रम में ट्वाय हेलीकॉप्टर से सर्वे की योजना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आईटीआई को मिली सरकार की स्वीकृति